सौर ऊर्जा से बनी बिजली से होगी खेती, प्रदेश भर में 3 लाख सोलर पंप लगाने का लक्ष्य

-harvested-by-Solar-energy-electricity-in-mp

भोपाल। प्रदेश सरकार ने सौर ऊर्जा को बढ़ावा देने की दिशा में काम शुरू कर दिया है। खासकर अब खेती में सौर ऊर्जा से बनी बिजली का उपयोग किया जाएगा। इसके लिए शुरूआत में 20 विकासखंडों का चयन किया जाएगा, जिनमें खेती के लिए सौर ऊर्जा से बनी बिजली से ही काम होगा। साथ ही सरकार ने प्रदेश भर में 2 लाख सोलर पंप लगाने का लक्ष्य तय किया है। यानी हर गांव में औसतन 4 पंप लगाने होंगे। मुख्यमंत्री कमलनाथ ने नवकरणीय ऊर्जा विभाग की बैठक में अफसरों को यह निर्देश दिए हैं। 

 मुख्यमंत्री ने सौर ऊर्जा से कृषि कार्य में पूरी बिजली उपलब्ध करवाने के लिए प्रदेश में संभावना वाले 20 विकासखंडों का चयन करने को कहा। चयनित विकासखण्डों में सौर परियोजनायें स्थापित की जाएं। मुख्यमंत्री ने मध्यप्रदेश ऊर्जा विकास निगम को प्रदेश में 2 लाख सोलर पंप लगाने का लक्ष्य दिया।  ये सोलर पंप वहाँ लगाए जाएँ, जहाँ मुख्यमंत्री स्थायी पंप योजना में लाइन विस्तार किया जाएगा। आम उपभोक्ताओं द्वारा रूफटॉप पर लगाये जाने वाले सौर सेटअप की नेट मीटरिंग में डिस्कोम से सहयोग देने को कहा। इससे ट्रांसमिशन एवं डिस्ट्रीब्यूशन लॉस को कम किया जा सकेगा। प्रदेश में उत्पादित सौर ऊर्जा खरीदें। प्रदेश के अन्य संस्थानों को भी सौर ऊर्जा  की खरीद को प्राथमिकता देने के लिये कहा जाए।