15 दिसंबर से शुरू हो रहे खरमास, शुभ कार्य के लिए जनवरी में यह है खास दिन

350

भोपाल। खरमास 15 दिसंबर से 15 जनवरी (मकर संक्रांति) तक शादियां एक माह बंद रहेगी। इस दौरान किसी प्रकार का कोई शुभ कार्य नहीं होगा । जनवरी से दिसंबर 2020 में कुल 76 दिन शहनाई गूंजेगी।

मां चामुण्डा दरबार के पुजारी गुरु पंडित रामजीवन दुबे एवं ज्योतिषाचार्य श्री विनोद रावत ने बताया कि विवाह की सभी तिथियां शुभ नहीं होती। विवाह के लिए शुभ मुहूर्त वर का सूर्य व चंद्र बल तथा वधु का गुरु व चन्द्र, लग्न बल को मिलाकर तिथि निकाली जाती है। बसंत पंचमी एवं अक्षय तृतीया अबूझ मुहूर्त होने सें हजारों शादियां होगी।

जनवरी 2020 से लेकर दिसंबर तक इन तिथियों में गूंजेगी शहनाई

जनवरी 2020 से दिसंबर तक कुल 76 दिनों तक शहनाइयां गूजेंगी। जनवरी माह में कुल 10 अबूझ मूहूर्त है, जिनमें 16,17,18, 19, 20, 21, 22, 29, 30, 31को शादियां होगी। ज्ञात हो कि 30 जनवरी को बसंत पंचमी के दिन बड़ी संख्या में शादियां होगी। इसी तरह फरवरी माह में शादियों का लग्र 17 दिनों तक है। इस माह जिप तिथियों में शादी होगी, उनमें 3, 4, 5, 9, 10,11,12, 13, 14,15,16,17,18,20,25,26 एवं 27 को होगी। मार्च माह में भी 10 दिनों 1, 2, 3, 7, 8, 9,10,11,12,13 को शादियों का शुभ मुहूर्त है। लेकिन 15 मार्च से 13 अप्रैल तक खरमास के चलते कोई शुभ काम नहीं होगा। अप्रैल 2020 में मात्र 6 दिनों जिसमें 14,15,20,25,26,27 को ही शादियों का योग है। इस माह 26 अप्रैल को अक्षय तृतीय के दिन शहर में बड़ी संख्या में शादियां होगी। मई माह में 16 दिन शादी का मुहूर्त है। इस माह 1, 2, 3, 4, 5, 6, 7, 8, 10,12, 17, 18,19, 23, 24, 29 को शहनाइयां गूजेंगी। जबकि जून माह में मात्र 8 दिन ही शादी के मुहूर्त हैं। जून माह में 13,14,15, 25, 26, 27, 28 एवं 30 को शुभ मुहूर्त है।

1 जुलाई से 25 नवंबर तक चर्तुमास में बंद रहेगी शादियां

एक जुलाई देवशयनी ग्यारस से 25 नवंबर देवउठनी एकादशी तक 4 माह 25 दिन तक चर्तुमास में शहनाइयां नहीं गूजेंगी। इसके बाद नवंबर माह में मात्र 2 दिन 26 एवं 30 नवंबर को ही शादी का शुभ मुहूर्त है। दिसंबर माह में भी मात्र 7 दिन ही शादी का मुहूर्त है। दिसंबर में 1, 2, 6, 7, 8, 9,11 को शादियां हो सकेगी। ऐसे में पूरे वर्ष में 76 दिनों तक ही शादियों का अबूझ मुहूर्त है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here