मोदी की गारंटी पर मुहर: जयपुर में संपन्न हुई मध्यप्रदेश और राजस्थान के मुख्यमंत्रियों की बैठक, पूर्वी राजस्थान नहर परियोजना के लिए MoU पर हुआ ऐतिहासिक निर्णय

मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री मोहन यादव और राजस्थान भजन लाल शर्मा के बीच रविवार को जयपुर में मीटिंग हुई। जहां दोनों के बीच कई मुद्दों को लेकर चर्चा हुई।

Shashank Baranwal
Published on -
Mohan Yadav

Mohan Yadav & Bhajan Lal Sharma Meeting : मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री मोहन यादव और राजस्थान के मुख्यमंत्री भजन लाल शर्मा के बीच बैठक संपन्न हो गई है। इस बैठक में पूर्वी राजस्थान नहर परियोजना (ERCP) के लिए MoU पर हस्ताक्षर कर ऐतिहासिक निर्णय लिया गया है। इस बैठक के बाद दोनों ही मुख्यमंत्री ने प्रेस वार्ता कर पत्रकारों से बातचीत की। जहां उन्होंने बैठक में लिए गए महत्वपूर्ण निर्णय पर चर्चा की।

निश्चित तौर पर इस निर्णय से दोनों ही राज्यों के कई जिलों में लाखों किसानों को फसलों के लिए बेहतर सिंचाई सुविधा मिलेगी। साथ ही औद्योगिक विकास को भी गति मिलेगी।

एक बड़ी आबादी इस निर्णय से लाभान्वित होगी : सीएम यादव

सीएम यादव ने बताया कि 2003 में पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी के नेतृत्व में मध्य प्रदेश और राजस्थान की नदियों को लेकर एक योजना बनी थी। जिसका आशय दोनों राज्यों के लोगों को इन नदियों का लाभ पहुंचाना था। लेकिन 2004 में केंद्र में कांग्रेस की सरकार बनने के बाद इस योजना को बस्ते में डाल दिया गया। आज प्रधानमंत्री मोदी के नेतृत्व में एक बार फिर इस योजना को लेकर बात हुई है जिससे निश्चित तौर पर पार्वती, काली सिंध और चंबल के पानी का लाभ दोनों ही राज्यों को मिलेगा, दोनों ही राज्यों की एक बड़ी आबादी इस निर्णय से लाभान्वित होगी। निश्चित तौर पर यह निर्णय बेहद ही महत्वपूर्ण निर्णय है और यह केंद्र सरकार के सहयोग से पूरा होगा।

अटल जी का यह सपना साकार होगा : सीएम शर्मा

वहीं इस मामले पर बात करते हुए राजस्थान के मुख्यमंत्री भजनलाल शर्मा ने प्रसन्नता जाहिर की है। बोले इस योजना को पूरा करने में सबसे महत्वपूर्ण भूमिका इच्छा शक्ति की है। कांग्रेस ने इस योजना पर केवल राजनीति की है। लेकिन अब प्रधानमंत्री मोदी के मार्गदर्शन में अटल जी का यह सपना साकार होगा और इस योजना के फैसले के अनुरूप आवश्यक कार्य किए जाएंगे।


About Author
Shashank Baranwal

Shashank Baranwal

पत्रकारिता उन चुनिंदा पेशों में से है जो समाज को सार्थक रूप देने में सक्षम है। पत्रकार जितना ज्यादा अपने काम के प्रति ईमानदार होगा पत्रकारिता उतनी ही ज्यादा प्रखर और प्रभावकारी होगी। पत्रकारिता एक ऐसा क्षेत्र है जिसके जरिये हम मज़लूमों, शोषितों या वो लोग जो हाशिये पर है उनकी आवाज आसानी से उठा सकते हैं। पत्रकार समाज मे उतनी ही अहम भूमिका निभाता है जितना एक साहित्यकार, समाज विचारक। ये तीनों ही पुराने पूर्वाग्रह को तोड़ते हैं और अवचेतन समाज में चेतना जागृत करने का काम करते हैं। मशहूर शायर अकबर इलाहाबादी ने अपने इस शेर में बहुत सही तरीके से पत्रकारिता की भूमिका की बात कही है– खींचो न कमानों को न तलवार निकालो जब तोप मुक़ाबिल हो तो अख़बार निकालो मैं भी एक कलम का सिपाही हूँ और पत्रकारिता से जुड़ा हुआ हूँ। मुझे साहित्य में भी रुचि है । मैं एक समतामूलक समाज बनाने के लिये तत्पर हूँ।

Other Latest News