MP : विधायकों को टिकट देने से किया इंकार तो बेटे -पत्नी के लिए ठोकी दावेदारी

MP--Now-these-Congress-MLAs-demand-tickets-for-sons-and-daughters

भोपाल।

लोकसभा चुनाव को लेकर कांग्रेस में तैयारियों जोरों पर चल रही है। टिकटों को लेकर जमकर मंथन किया जा रहा है।कई नामों पर सहमति बन चुकी है और बाकी नामों पर अगली स्क्रीनिंग कमेटी मे चर्चा होना है। वही पार्टी द्वारा विधायकों को  टिकट ना दिए जाने के ऐलान के बाद अब विधायकों ने बेटे-पत्नी के लिए टिकट मांगना शुरु कर दिया है।लोकसभा चुना में कांग्रेस के तीन विधायकों ने अपनी पत्नी और बेटे के लिए टिकट की मांग की है।  हालांकि राजस्थान में पार्टी ने राज्यसभा सदस्य, विधायक, विस चुनाव हारे नेता और नेताओं के परिजनों को लोकसभा चुनाव में टिकट देने से इंकार कर दिया है, ऐसे में माना जा रहा है एमपी में भी इसी फॉर्मूले को लागू किया जा सकता है।

दरअसल,वर्तमान में कांग्रेस के 3 विधायकों के परिजन लोकसभा क्षेत्रों में सक्रिय नजर आ रहे हैं। पहले नंबर पर राऊ से दूसरी बार चुनाव जीत कर प्रदेश सरकार में मंत्री बने जीतू पटवारी की पत्नी रेणू पटवारी का नाम चर्चाओं में चल रहा है। इन दिनों वे अपने मंत्री पति के साथ राजनीति में काफी सक्रिय दिखाई दे रही है।विधानसभा चुनाव में भी रेणु अपने पति और मंत्री जीतू के साथ जनसंपर्क में देखी गई थी, लेकिन इस बार वे खुद के लिए सक्रिय नजर आ रही हैं। उधर मंत्री पटवारी भी शहर के सार्वजनिक कार्यक्रमों में बढ़-चढ़कर हिस्सा ले रहे हैं। गत दिनों हुकमचंद मिल के श्रमिकों के बीच भी उन्होंने बड़ी घोषणाएं कीं।उन्होंने इंदौर के लिए पत्नी का नाम आगे बढ़ाया है।वही उज्जैन संसदीय क्षेत्र से इस बार मंत्री तुलसीराम सिलावट के बड़े बेटे नितिश लोकसभा के लिए दावेदारी कर रहे हैं। बेटे के लिए सिलावट ने भी लॉबिंग शुरू कर दी है। डेली कॉलेज से पढ़े नितिश भी उज्जैन में पिछले तीन माह से सक्रिय हैं। इसके अलावा पीडब्ल्यूडी मंत्री सज्जन सिंह वर्मा के बेटे पवन वर्मा की भी देवास संसदीय क्षेत्र से दावेदारी मजबूत मानी जा रही है। विधानसभा चुनाव के बाद से ही पवन क्षेत्र में सक्रिय हो गए हैं। मंत्री वर्मा सांसद रह चुके हैं और लोकसभा चुनाव के मद्देनजर उनके दौरे भी देवास, आगर, शाजापुर में बढ़ गए हैं। 9 साल पहले मंत्री वर्मा विधायक थे। पार्टी ने उन्हें लोकसभा का टिकट दिया था। वे चुनाव जीत गए थे। उसके बाद उपचुनाव में उन्होंने अपने ही एक रिश्तेदार को टिकट दिलवाया था, लेकिन तब भाजपा के उम्मीदवार राजेंद्र वर्मा चुनाव जीते थे।ऐसे में इस बार फिर वर्मा अपने बेटे को टिकट दिलाने की जुगत में है।ऐसे में कांग्रेस के लिए लोकसभा चुनाव में टिकट बंटवारे के फार्मूले पर अमल करना आसान नहीं लग रहा है। उम्मीदवार तय करने की प्रक्रिया शुरू होने से पहले ही पार्टी के अंदर टिकट की दावेदारी तेज होने लगी है। लोकसभा के लिए टिकट के लिए दावेदारी करने वालों में कई मंत्री, वरिष्ठ नेता, पूर्व मंत्री और विधायक शामिल हैं। ऐसे में पार्टी को लोकसभा चुनाव में उम्मीदवार तय करने के फार्मूले में बदलाव करना पड़ सकता है।हालांकि पार्टी पहले ही साफ कर चुकी है कि वह केवल जिताउ उम्मीदवार को ही टिकट देगी। लेकिन मंत्री-विधायकों की लगातार दावेदारी के बाद ऐसा लग रहा है कि विधानसभा चुनाव की तरह लोकसभा में भी टिकटों को लेकर घमासान मचना तय है।

इसलिए विधायकों को टिकट देने के मूड मे ंनही कांग्रेस

बता दे कि विधानसभा चुनाव में किसी भी दल को स्पष्ट बहुमत नहीं मिला था। सरकार बनाने के लिए 116 सीटों की आवश्यकता थी और कांग्रेस के पास 114 सीटें थी, जबकि भाजपा के पास 109 सीटें थीं। कांग्रेस को निर्दलीय विधायकों ने भी समर्थन दे दिया था। अब यदि लोकसभा चुनाव में राजनीतिक दल विधायकों को उम्मीदवार बनाते हैं और तो उन्हें विधानसभा सीट रिक्त करना होगी और उपचुनाव होने की स्थिति में प्रदेश के राजनीतिक हालत अस्थिर हो सकते हैं।इसके चलते कांग्रेस ने फैसला किया है कि वो अब विधायकों को टिकट नही देगी।

पैनल में इन रिश्तेदारों के नाम भी आए सामने

खजुराहो में ब्राह्मण प्रत्याशी बनाए जाने के आसार हैं जिनमें पूर्व मंत्री मुकेश नायक, प्रदेश कांग्रेस के पूर्व संगठन प्रभारी महामंत्री चंद्रिका प्रसाद द्विवेदी और विधायक विक्रम सिंह नातीराजा की पत्नी कविता सिंह के नाम स्क्रीनिंग कमेटी ने पैनल में लिए हैं। सूत्र बताते हैं कि मालवा-निमाड़ में उज्जैन और खरगोन में तीन-तीन नाम के पैनल हैं। खरगोन में पूर्व विधायक रमेश पटेल व विजय सिंह सोलंकी के साथ मंत्री बाला बच्चन की पत्नी का नाम है तो उज्जैन में विधायक महेश परमार की बहन डॉ. सीमा, पूर्व विधायक बाबूलाल मालवीय और मंत्री तुलसीराम सिलावट के पुत्र का नाम स्क्रीनिंग कमेटी के पैनल में पहुंच गए हैं। इसके अलावा  विंध्य में सीधी सीट के लिए पूर्व सांसद माणिक सिंह और पूर्व विधायक वंशमणि वर्मा के नाम पैनल में हैं, जिनके लिए पूर्व नेता प्रतिपक्ष अजय सिंह और मंत्री कमलेश्वर पटेल की भी सहमति ली जाना है। मंडला लोकसभा क्षेत्र में स्क्रीनिंग कमेटी ने पूर्व विधायक नन्हेसिंह धुर्वे और कृष्णा उरेती तो शहडोल में भाजपा से कांग्रेस में आई पूर्व विधायक प्रमिला सिंह, नरेंद्र मरावी के नाम पैनल में हैं।