MP School: छात्रों के लिए बड़ी खबर, अधिकारियों को प्रोफाईल का पंजीयन कराने के निर्देश

स्कूलों में बने जाति प्रमाण पत्रों की सूची तैयार कर, संबंधित SDM को प्रदान करें और उन विद्यार्थियों के डिजिटल जाति प्रमाण पत्र जारी करवाये।

mp school

भोपाल, डेस्क रिपोर्ट।  MP में सितंबर-अक्टूबर 2021 से सभी कक्षाओं के स्कूलों (MP School Reopen) को सावधानी पूर्वक और नियमों का पालन करते हुए खोल दिया गया है। वही जिला स्तर पर कलेक्टरों द्वारा बैठकें ली जा रही है और छात्रों, छात्रवृत्ति और प्रोफाइल अपडेट संबंधित निर्देश जारी किए जा रहे है।इसी कड़ी में नीमच कलेक्टर ने सभी विद्यार्थियों के पोर्टल पर प्रोफाईल का पंजीयन करवाने के अधिकारियों को निर्देश दिए है।इसके पहले बड़वानी कलेक्टर ने स्कूल में अनाधिकृत रूप से अनुपस्थित रहने वाले शिक्षकों का वेतन और इन्क्रीमेंट रोकने और सागर संभागायुक्त ने स्कूल शिक्षा विभाग (MP School Education Department) की बैठक में शिक्षा पोर्टल पर नामाकंन कराने के DEO को निर्देश दिए थे।

यह भी पढ़े.. MP: पटवारी-शिक्षक समेत 5 निलंबित, 51 कर्मचारियों को नोटिस, 1 बर्खास्त, 1284 के लाइसेंस निलंबित

नीमच कलेक्टर मयंक अग्रवाल (Neemuch Collector Mayank Agarwal)की अध्यक्षता ने आदिम जाति कल्याण, पिछडा वर्ग, NRLM, जिला रोजगार, उद्योग विभाग की बैठक में जिला संयोजक को निर्देश दिए कि एमपी.टास पोर्टल (mp tas portal) पर अजा जनजाति वर्ग के विद्यार्थियों की प्रोफाईल के पंजीयन (Registration of student profiles) का कार्य तेजी से पूर्ण करवाये। स्कूलों में बने जाति प्रमाण पत्रों की सूची तैयार कर, संबंधित SDM को प्रदान करें और उन विद्यार्थियों के डिजिटल जाति प्रमाण पत्र जारी करवाये।

इसके अलावा कलेक्टर ने अजा जनजाति बस्ती विकास संबंधी स्वीकृत निर्माण कार्यो की समीक्षा करते हुए निर्देश दिए कि अप्रारम्भ कार्यो को तत्काल प्रारंभ करवाये और निर्माणाधीन कार्यो को तेजी से पूर्ण करवाये।जिला रोजगार कार्यालय द्वारा संचालित योजनाओं की समीक्षा के दौरान कलेक्टर ने अपेक्षित प्रगति नहीं पाये जाने पर जिला रोजगार अधिकारी की 1 वेतन वृद्धि रोकने के निर्देश भी जिला पंचायत CEO को दिए। कलेक्टर ने जिला रोजगार अधिकारी को महाप्रबंधक उद्योग, परियोजना अधिकारी, ARLS से समन्वय कर दीपावली बाद जिला स्तर पर वृहद रोजगार मेला (job fair) आयोजित करने के निर्देश भी दिए।

यह भी पढ़े.. 15 लाख कर्मचारियों को दिवाली बोनस का तोहफा, आदेश जारी, अक्टूबर में बढ़कर आएगी सैलरी

वही स्कूल बसों की चेकिंग का सिलसिला भी जारी है।मप्र शासन की गाइड लाइन के अनुसार स्कूल बसों का संचालन, प्रशिक्षित ड्राइवर ,सुरक्षा के लिए एक टीचर या हेल्पर, वाहनों में गति को नियंत्रित करने के लिए स्पीड गवर्नर, CCTV कैमरा अग्निशमन यंत्र, GPS और निर्धारित क्षमता में बच्चों को बिठाया जाना आवश्यक है। इसी कड़ी में गुरुवार को मंडला में यातायात पुलिस के द्वारा पुलिस अधीक्षक यशपाल सिंह के निर्देशन पर स्कूल बसों की आकस्मिक चेकिंग के दौरान स्कूल बसों में सुरक्षा संबंधी उपकरण स्पीड गवर्नर, CCTV कैमरा, GPS, अग्निशमन यंत्र आदि चेक किए गए ।

CM Rise School का ऐसा होगा डिजाईन

इसके अलावा प्रमुख सचिव स्कूल शिक्षा रश्मि अरुण शमी ने सभी सहभागी आर्किटेक्ट से सीएम राइज स्कूल की अवधारणा और मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान (CM Shivraj Singh Chouhan) के विज़न अनुरूप सर्व-सुविधायुक्त और सर्व संसाधन सम्पन्न स्कूल भवनों के डिज़ाइन तैयार करने को कहा। प्रमुख सचिव जनजाति कार्य पल्लवी जैन गोविल ने कहा कि प्रदेश के 89 ट्राइबल ब्लॉक और दूरस्थ क्षेत्रों की भौगोलिक विशेषताओं को ध्यान में रखकर सीएम राइज स्कूलों (CM Rise Schools) की डिजाइन तैयार की जानी चाहिए। स्कूलों के स्ट्रक्चर में जनजातीय क्षेत्र के अनुरूप ट्राइबल आर्ट और वैल्यू डिजाइन को शामिल किया जा सकता है। वही हॉस्टल फेसिलिटी और अन्य सुविधाओं के लिए पर्याप्त ज़मीन की उपलब्धता को भी ध्यान में रखा जाना चाहिये।