घर से प्यार नहीं मिलने की वजह से लापता हुई थी सलोनी, लेटर से हुआ खुलासा

no-love-at-home-young-girl-diasper-from-home

भोपाल। दो दिन रहस्यमय हालातों में लापता रही सोनाली सिन्हा के मिलने के बाद भी कई अनसुलझे सवाल बाकी हैं। सोनाली के कबार्ड में डायरी के पास में मिले पत्र में उसने घर वालों द्वारा परेशान करने की बात लिखी है। यह सिर्फ सोशल मीडिया चलाने को लेकर मामूली डांट-फटकार थी कि कुछ और इस बात की पुलिस तजदीक कर रही है। एसपी राहुल कुमार लोढ़ा का कहना है कि बच्ची के मजिस्ट्रेट बयान कराए जाएंगे। उसकी मंशा अगर उसकी मां के साथ रहने की होगी तो उसे मां की कस्टडी में दिया जाएगा। वहीं पोती मिलने की खबर के बाद सोनाली के दादा कॉलोनी के उस बंद मकान में कल सुबह पहुंचे, जहां पोती मिली थी। सोनाली के अपहरण के मामले में संदेही उसके नाबालिग दोस्त मोहित के दादा वहां पहले से मौजूद थे। जहां उन्होंने सोनाली सुशील कुमार सिन्हा को देख पोती के संबंध में टिप्पणी कर दी। जिसे लोकर दोनों वृद्धों में तीखी नोक-झोंक हो गई। मोहित के दादा का कहना है कि सोनाली के कारण उनके परिजनों ने दो दिन तक पुलिस के टार्चर को झेला है। जिससे वह ऊब गए हैं। 

– यह था मामला 

गौरतलब है कि साकेत नगर में रहने वाले सुशील कुमार सिन्हा भेल कारखाने के रिटायडज़् कर्मचारी हैं। उनके बेटे जसवंत सिंह बीमारी के चलते पिछले दो सालों से बिस्तर पर हैं। पोती सोनाली (14) साकेत नगर स्थित लिटिल रोड को-एड स्कूल में आठवीं कक्षा की छात्रा है। गुरुवार की दोपहर करीब दो बजे स्कूल से छुट्टी होने के बाद वह घर लौट रही थी, तभी कालोनी के मोड़ पर पहुंचने के बाद गायब हो गई।