रातों रात मुझे भागकर भोपाल आना पड़ा, 50-60 पुलिसकर्मी घर डंडे लेकर पहुंचे थे: पूर्व मंत्री

भोपाल, डेस्क रिपोर्ट

पूर्व चिकित्सा शिक्षा मंत्री विजय लक्ष्मी साधौ ने आज मंगलवार को पीसीसी कार्यालय में प्रेस कांफ्रेंस कर बड़ा आरोप लगाया है। साधौ का कहना है कि प्रदेश में महिलाएं , बच्चियों, दलितों के साथ प्रताड़नाएं बढ़ गयी हैं, कमज़ोर को और कमज़ोर किया जा रहा है। कल मुझे रातों रात भागकर भोपाल आना पड़ा, मुझे पता चला था कि 50-60 पुलिसकर्मी मेरे घर डंडे लेकर पहुंचे, मैं घर पर नहीं थी। मेरी भाभी और 2 बच्चियां थी।

साधौ ने कहा कि मुझे नोटिस दिया गया था, लेकिन हमारे भी कुछ अधिकार हैं, हमारी भी पात्रता है।अन्याय सहने वाला भी दोषी होता है, इसलिए हम आवाज उठा रहे हैं।प्रदेश सरकार ने कुछ पूर्व मंत्रियों को चुन चुनकर नोटिस दिया, कुछ को नहीं, सभी के साथ एक जैसे नियम हो। दीपक जोशी, कृष्णा गौर, सुरेंद्र पटवा, पारस जैन जैसे बहुत से नाम हैं जो हमारी सरकार के समय भी बंगलों में रहे हैं। वरिष्ठता के आधार पर हमारी पात्रता है। दो एसटी और 2 एससी पूर्व मंत्रियों को नोटिस दिए गए हैं, जिसमें मेरा नाम सज्जन वर्मा, बाला बच्चन औऱ उमंग सिंगार का नाम शामिल है।।

देश और प्रदेश की स्थिति भयावह
मध्यप्रदेश में लगातार फैल रहे कोरोना संक्रमण को लेकर साधौ ने सरकार पर निशाना साधा और कहा कि देश और प्रदेश में स्थिति भयावह बनी हुई है, कोरोना आकंड़ों की बाज़ीगरी चल रही है। पिछले 7 दिनों में स्थिति और भी ज्यादा बिगड़ी है।राहुल गांधी ने फरवरी में चेतावनी दी थी लेकिन उन्हें इग्नोर किया गया। सरकार ने कोरोना का शुरुआत में मज़ाक बनाया अब तेरा तुझको अर्पण कह रहे हैं, जनता को खुदके भरोसे छोड़ दिया है। प्रदेश में कोरोना के 47 हज़ार से ज्यादा मामले हैं और हज़ारों की मौत हो चुकी है

कोरोना कैपिटल बनता जा रहा भोपाल
साधौ ने कहा कि गृहमंत्री स्वास्थ्य के बुलेटिन जारी कर रहे हैं, स्वास्थ्य मंत्री को एक तरफ कर दिया गया है। 2018 में हमारी सरकार बनी तो मैने मेडिकल कॉलेजों में बैठकें की,लैब अस्तित्व में नहीं थी हमारी सरकार ने लैब्स को तत्काल शुरू करवाई।इंदौर में बाइयोलॉजी लैब की शुरुआत की। इस सबके बावजूद हमारे प्रदेश में सबसे कम टेस्ट पूरे देश मे हो रहे हैं। भोपाल अब कोरोना कैपिटल बनता जा रहा है, मृत्यु दर भी तेजी से बढ़ रही है । प्रदेश में डॉक्टर्स की स्थिति बहुत खराब है। एन्टीजन और पीसीआर टेस्ट की रिपोर्ट बड़े पैमाने पर गलत आती हैं। पीपीई किट अब भी ज़रूरतमंदों को नहीं दी जा रही है।प्रभुराम चौधरी के इलाके में कोविड पेशेंट के खाने में इल्लियां निकलती हैं।

सरकार केवल घोषणावीर

साधौ ने कहा कि जनता जानती है प्रदेश की सरकार सिर्फ घोषणावीर है। प्रदेश में एक अच्छी सरकार थी लेकिन इसे कोरोना महामारी के समय गिराया गया। हमने 51 हजार दिए कन्यादान योजना में लेकिन अब सरकार इसे वापस रिवर्स कर 28 हजार पर के जा रही है।