‘महाराज’ के गढ़ में ‘राजा’ ने लगाई सेंध, बीजेपी को दिया बड़ा झटका

भोपाल| ज्योतिरादित्य सिंधिया (Jyotiraditya Scindia) के गढ़ माने जाने वाले गुना-शिवपुरी (Guna-Shivpuri) संसदीय क्षेत्र में बीजेपी (BJP) को तगड़ा झटका लगा है। बीजेपी के पांच बार विधायक और पूर्व राज्यमंत्री गोपीलाल जाटव, (Gopilal Jatav) जो इस मंत्रिमंडल विस्तार में मंत्री पद के प्रबल दावेदार थे, ने राज्यसभा चुनाव (RajyaSabha Election) में क्रॉस वोटिंग (Cross Voting) की है ।

दरअसल गोपीलाल जाटव स्व. राजमाता विजयराजे सिंधिया के कट्टर समर्थक माने जाते थे और उन्हीं के आशीर्वाद के चलते हुए राजनीति के इस मुकाम पर पहुंचे। ज्योतिरादित्य सिंधिया के कांग्रेस में रहते भी गोपीलाल जाटव के उनके संबंध कभी खराब नहीं हुए और सामान्यतः यह माना जाता रहा लोकसभा चुनाव में सिंधिया का अप्रत्यक्ष रूप से सहयोग करते हैं| लेकिन जब सिंधिया बीजेपी में शामिल हुए उसके बाद गोपीलाल जाटव का यह रूख कैसे हुआ यह समझ से परे है । हालांकि राज्यसभा के चुनाव में वोट डालने की प्रक्रिया बेहद पारदर्शी है और इसमें पार्टी के एजेंट को दिखाकर वोटिंग की जाती है ताकि क्रास वोटिंग का खतरा ना हो । इसके बाद भी गोपीलाल जाटव ने कैसे कांग्रेस के समर्थन में वोटिंग कर दी यह अपने आप में बड़ा सवाल है और इसके पीछे कहीं न कहीं यह भी माना जा रहा है कि कांग्रेस के राष्ट्रीय महासचिव दिग्विजय सिंह की कूटनीति ने काम किया।

अब इस पूरे घटनाक्रम से यह संदेश भी जाएगा कि सिंधिया अपने ही घर में अपनी ही पार्टी के लोगों के प्रति विश्वास पैदा नहीं कर पाए। मध्य प्रदेश के राजनीतिक हलकों में भी कांग्रेस को जिस तरह से कमजोर माना जा रहा था और बीजेपी लगातार यह दावे कर रही थी कि उपचुनाव में कांग्रेस के दांत खट्टे कर देगी, कांग्रेस की एक बड़ी कूटनीतिक जीत है।