बागी कांग्रेस विधायकों को 15 मार्च तक पेश होने का नोटिस, निरस्त हो सकता है इस्तीफा

भोपाल। मध्य प्रदेश में जारी सियासी ड्रामे के बीच विधानसभा अध्यक्ष नर्मदा प्रसाद प्रजापति ने कांग्रेस के बागी सभी विधायकों को दोबारा से नोटिस दिया है। विधानसभा अध्यक्ष ने बागी विधायकों को 15 मार्च तक पेश होने का नोटिस दिया है। इसके पहले प्रजापति ने सभी 22 विधायकों को अलग-अलग दिन पर बुलाया था। लेकिन अब सभी को 15 मार्च 2020 शाम 5:00 बजे पेश होने का नोटिस जारी कर दिया है।

दरअसल, विधायकों के इस्तीफे पर स्पीकर ने नोटिस जारी कर उन्हें हाजिर होने के लिए कहा था। इनमें से 6 विधायकों को शुक्रवार, 7 विधायकों को शनिवार और बाकी 9 विधायकों को रविवार को उपस्थित होना था। शुक्रवार दोपहर तक सभी विधायकों का बैंगलूर से भोपाल पहुंचना था, लेकिन देर रात तक वे भोपाल नही लौटे। कोरोना वायरस के चलते उनका आना कैंसल हो गया। हालाकिं कहा जा रहा है कि बेंगलुरु में ठहरे सभी विधायकों से भाजपा अध्यक्ष जेपी नड्डा का संपर्क जुड़ा हुआ है।सभी 19 विधायक एयरपोर्ट तक आकर वहां से वापस अपने होटल लौट गए।इस पर अध्यक्ष ने प्रजापति ने कहा मैंने तीन घंटे तक विधायकों का इंतजार किया, लेकिन कोई नहीं आया। इसके बाद आज शनिवार को विधानसभा अध्यक्ष ने कांग्रेस के बागी विधायकों को 15 मार्च तक पेश होने का नोटिस दिया है।

संसदीय कार्यमंत्री गोविंद सिंह का कहना है कि इस्तीफें दिए हुए सभी 19 विधायकों को स्पीकर के सामने पेश होना होगा और फिर उनके द्वारा दिए गए इस्तीफे की जांच – पड़ताल की जाएगी यदि सभी विधायकों ने अपनी मर्जी से त्यागपत्र नहीं दिए होंगे तो सभी के त्यागपत्र निरस्त कर दिया जाएगा।

कहा जा रहा है कि यदि सभी विधायक स्पीकर के सामने उपस्थित नहीं होंगे तो सरकार फ्लोर टेस्ट को भी कैंसिल कर देगी और सभी विधायकों को फिर सुप्रीम कोर्ट का दरवाजा खटखटाना पड़ सकता है। सभी विधायकों को स्पीकर के सामने उपस्थित होना अनिवार्य है।