मप्र के इन जिलों में भारी बारिश से नदियां उफान पर, यहां बाढ़ जैसे हालात

भोपाल, डेस्क रिपोर्ट| मध्य प्रदेश (Madhya Pradesh) में एक बार फिर जोरदार बारिश (Heavy Rain) का सिलसिला शुरू हो गया| लगातार हो रही बारिश से अनेकों जिलों में नदी-नाले उफान पर आ गए हैं| कई नदियों में जलस्तर बढ़ने के कारण बांधों के गेट खोले जा रहे हैं। रायसेन में बारना डैम के 8 गेट खोल दिए गए। डैम से छोड़े जा रहे पानी की वजह से बरेली में बारना पुल पर 20 फीट पानी आ गया है। इससे नेशनल हाइवे-12 जयपुर-जबलपुर बंद हो गया। खंडवा जिले में नर्मदा घाटी के ऊपरी क्षेत्रों में हुई बारिश और बांध के कैचमेंट एरिया से आने वाले पानी से बांधों का जलस्तर तेजी से बढ़ा है। इंदिरा सागर बांध के 12 गेट से 3000 क्यूमेक्स और टरबाइन से 1840 क्यूमेक्स सहित कुल 4840 क्यूमेक्स पानी नर्मदा नदी में छोड़ा जा रहा है। यहां पहले 6 गेट खुले हुए थे। गेट की संख्या दोगुना होने से नर्मदा उफान पर है|

ओम्कारेश्वर बांध के 15 गेट खोले गए हैं। जिसके चलते ओंकारेश्वर में नर्मदा के सभी घाट जलमग्न हो गए हैं। वहीं मोरटक्का में भी नर्मदा का जलस्तर बढ़ गया है। इधर होशंगाबाद जिले के तवा बांध, रायसेन के बारना और जबलपुर के बरगी बांध के गेट खुलने से नर्मदा का जलस्तर बढ़ गया है| जिसके चलते होशंगाबाद में बाढ़ जैसे हालात बन गए हैं।

बैतूल जिले में भी भारी बारिश के कारण नदी नाले उफान पर हैं| शाहपुर में बाढ़ से नेशनल हाईवे-69 सुबह 6 बजे से बंद है। शाहपुर तहसील ऑफिस के पास नाले पर लगभग 3 फीट पानी आ जाने से मार्ग बंद हो गया। इससे भोपाल-नागपुर संपर्क पूर्ण रूप से टूट चुका है। वहीं नरसिंहपुर जिले में भी नर्मदा, शेढ़, शक्कर, सीतारेवा, बरांझ सहित अन्य नदियां पर हैं|

दमोह जिले के असलाना ग्राम में शुक्रवार की सुबह आए चंद मिनट के तूफान ने तबाही मचा दी। लगभग 50 घरों को यहां पर नुकसान हुआ है। कई घर तो पूरी तरह से उजड़ गए हैं। तेज आंधी और तूफान के कारण यहां के लोगों को काफी नुकसान उठाना पड़ा है। एकाएक आई हवा ने इस गांव के पेड़ उखाड़ दिए, तो बिजली के खंभे भी जमींदोज कर दिए। रायसेन जिले में बाड़ी स्थित बारना बांध के सभी आठ खुले गए हैं। बांध के गेट खुल जाने से तहसील के कई गांवों में पानी प्रवेश कर गया है, जिससे उनका घर गृहस्थी का सामान खराब हो गया है। इसके अलावा नर्मदा के उफान पर आने से बरेली और उदयपुरा क्षेत्र के भी गांवों में पानी भर गया है। बेगमगंज-गैरतगंज क्षेत्र में कहूला पुल पर पानी आ जाने भोपाल मार्ग बंद हो गया। बरेली में निचली बस्ती से लोगों को निकालकर सुरक्षित स्थानों पर शिफ्ट किया गया है। बड़वानी में नर्मदा का जल स्तर बढ़ने से कई गांव टापू में तब्दील हो गए हैं। तस्वीर बड़वानी जिले के राजघाट पहुंच मार्ग की है। घाट पर स्थित मंदिर के मुख्य द्वार पर बैक वाटर पहुंच गया है।

इन जिलों में अत्यधिक भारी बारिश की चेतावनी(रेड अलर्ट)
मौसम विज्ञान केन्द्र भोपाल के वैज्ञानिकों के अनुसार प्रदेश के अनेक स्थानों पर पिछले दो दिनों से बारिश का दौर लगातार जारी है। नरसिंहपुर, बालाघाट, सिवनी, छिंदवाड़ा, बैतूल, होशंगाबाद में रेड अलर्ट|

इन जिलों में भारी बारिश की चेतावनी(ऑरेंज अलर्ट)
सागर संभाग के जिलों, कटनी, जबलपुर, मंडला, विदिशा, रायसेन, सीहोर, हरदा, धार, देवास,श्योपुरकलां

इन जिलों में भारी बारिश की चेतावनी(येलो अलर्ट)
भोपाल, राजगढ़, बुरहानपुर, खंडवा, खरगोन, उज्जैन, शिवपुरी, ग्वालियर, दतिया