सेक्स रैकेट: हर महीने आती थी नई कॉलगर्ल, व्हाट्सएप पर फोटो देख होती थी डील

भोपाल| राजधानी के पॉश कालोनी में चल रहे हाई प्रोफ़ाइल सेक्स रैकेट के पर्दाफ़ाश के बाद पता चला है कि गिरोह का सरगना साजिद हुसैन इस रैकेट को हाई टेक तरीके से संचालित कर रहा था| वॉट्सएप पर ग्राहक को युवतियों के फोटो भेजी जाती थी| डील होने के बाद ग्राहक को लाने और छोड़ने के लिए लग्जरी कार का इस्तेमाल किया जाता था। पुलिस ने इंद्र विहार कॉलोनी स्थित मकान नंबर सी-106 पर छापा मार मौके से छह लोगों को गिरफ्तार किया है।

पुलिस ने जब इस मकान में दबिश दी तो अलग-अलग कमरों में चार युवतियां मिलीं। उनमें से एक उज्बेकिस्तान, दो नेपाल की व एक कोलकाता की है। वहीं इस गिरोह का सरगना साजिद हुसैन खान पिता सलीमउद्दीन (27) और ग्राहक रामकिशोर मीना (38) निवासी मकान नंबर-38 राजेंद्र नगर निशांत विहार कॉलोनी जिला सतना को गिरफ्तार किया गया। रामकिशोर सतना में भारतीय स्टेट बैंक की मुख्य शाखा का मैनेजर है।

डेढ़ लाख के पैकेज पर आई थी उज्बेकिस्तान की कॉलगर्ल
गिरोह का सरगना देश के अलग अलग शहरों के अलावा विदेशी लड़कियों को भी बुलाता था| ग्राहकों को उनके बताई जगह से अड्डे तक लाने व वापस छोड़ने के लिए स्कोडा कार की सर्विस दे रखी थी। मौके से पकड़ाई उज्बेकिस्तान की कॉलगर्ल टूरिस्ट वीजा पर दिल्ली आई थी। दिल्ली में वह मालवीय नगर स्थित कॉलोनी में किराए से रहती है। साजिद ने डेढ़ लाख रुपए के पैकेज पर उसे 15 दिन के लिए बुलाया था। पुलिस पूछताछ में पता चला कि वह दिन में एक बार के दस हजार व एक रात रुकने के 25 हजार रुपए लेती थी। वहीं नेपाली युवतियों के देह व्यापार के रेट कम थे। वहीं मौके पर युवतियों में एक साजिद की पत्नी है। वह बंगाल की रहने वाली है। पति के कहने पर वह भी देहव्यापार करती है।

व्हाट्सएप पर होती थी डील, हर महीने नई कालगर्ल
सेक्स के कारोबार को चलाने के लिए सरगना साजिद अड्डे पर हर महीने नई कालगर्ल लाता था| युवतियों को दिल्ली या अन्य शहरों से अलग-अलग पैकेज पर बुलाया जाता था। व्हाट्सअप पर ही डील होती थी और पसंद करने के बाद रेट तय होते थे|जिस मकान में देह व्यापार का पर्दाफाश किया गया, उसमें कॉलगर्ल के साथ ग्राहकों को के लिए भी लग्जरी सुविधा दी जा रही थी। हर कॉलगर्ल के लिए अलग कमरा था।