लोकसभा चुनाव से पहले संघ की बड़ी बैठक, ग्वालियर में तय होगी अंतिम रणनीति

The-big-meeting-of-the-Sangh-before-the-Lok-Sabha-elections

भोपाल। लोकसभा चुनाव से पहले राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ की बड़ी बैठक अगले महीने 8 मार्च से ग्वालियर में होने जा रही है। इस बैठक को लोकसभा चुनाव के मद्देनजर अहम माना जा रहा है। बैठक में संघ की सभी अनुषांगिक संगठनों के प्रांत प्रमुख एवं भाजपा नेता भी शामिल होंगे। यह संघ की अखिल भारतीय स्तर की बैठक होती है जो हर साल होती है। करीब तीन दिन तक चलने वाली बैठक में संघ अपनी आगामी गतिविधियों पर चर्चा करेगा साथ ही भाजपा नेताओं से संघ पदाधिकारी अलग से चर्चा करेंगे। भाजपा की आगामी लोकसभा चुनाव की रणनीति को ग्वालियर में अंतिम रूप दिया जाएगा। संघ के सभी आनुषांगिक संगठनों के प्रमुखों सहित भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह भी बैठक में शामिल होंगे। 

प्रतिनिधि सभा की बैठक संघ की सालाना बैठक मानी जाती है, जिसमें हर आनुषांगिक संगठन से पांच सदस्य बुलाए जाते हैं। 10 मार्च तक चलने वाली इस बैठक के बाद संघ के अनुषांगिक संगठनों में कुछ फेरबदल की संभावनाएं भी हैं। प्रतिनिधि सभा से पहले मप्र की लोकसभा सीटों को लेकर संघ की एक महत्वपूर्ण समन्वय बैठक भी होगी। इस बैठक में मप्र की लोकसभा सीटों पर भाजपा के संभावित प्रत्याशियों पर बातचीत होगी और चुनावी रणनीति तय होगी। इसके साथ ही लोकसभा चुनाव के लिए संघ के अन्य आनुषांगिक संगठनों के कार्यकतार्ओं की जिम्मेदारी भी तय की जाएगी। समन्वय बैठक में भाजपा के कई बड़े नेता भी हिस्सा लेंगे। माना जा रहा है कि यह समन्वय बैठक फरवरी के अंतिम सप्ताह या मार्च के पहले सप्ताह में हो सकती है। 

16 सांसदों की टिकट पर संकट 

विधानसभा चुनाव में तीन राज्यों में बीजेपी की हार के बाद संघ भी नाखुश है| सूत्रों से मिली जानकारी के मुताबिक, देश में लोकसभा चुनाव को लेकर आरएसएस प्रमुख मोहन भागवत भाजपा अध्यक्ष अमित शाह से चर्चा करेंगे। विधानसभा चु���ाव में आरएसएस ने भाजपा को तीनों प्रदेशों में करीब 100 से ज्यादा विधायकों को फिर से टिकट नहीं देने की बात कही थी। लेकिन प्रादेशिक नेत्तृव ने इसकी अनदेखी की थी। अब संघ चाहता है कि ऐसी गलती लोकसभा चुनाव में नहीं दोहराई जाए। वहीं मध्य प्रदेश आरएसएस ने एक सर्वे रिपोर्ट भाजपा को सौंपी है। इसमें प्रदेश के 26 में से करीब 16 सांसदों के टिकट काटने की सिफारिश की गई है। संघ ने कहा है कि इन सांसदों के खिलाफ जनता के बीच गुस्सा बहुत ज्यादा है, यदि इन्हें फिर से टिकट दिया गया तो हालात मुश्किल हो सकते हैं।

18 फरवरी से मप्र दौरे पर रहेंगे भागवत

संघ के सरसंघचालक मोहन भागवत भी 18 से 22 फरवरी को मप्र के दौरे पर रहेंगे। इस दौरान वे संघ के मध्य भारत, मालवा, महाकोशल और छत्तीसगढ़ प्रांत की बैठक लेंगे। 18 फरवरी को वे इंदौर पहुंचेंगे। यहां मध्य भारत प्रांत और मालवा प्रांत की बैठक करेंगे। इसके बाद वे जबलपुर भी जा सकते हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here