शिवराज सरकार शुरु करने जा रही है यह बड़ी योजना, पहले इन जिलों को मिलेगा लाभ

शुरुआत में रीवा, सागर और जबलपुर संभाग (Rewa, Sagar and Jabalpur Divisions) के 550 प्राथमिक उप स्वास्थ्य केंद्रों पर ग्लोबल डिजिटल डिस्पेंसरी द्वारा विशेषज्ञ चिकित्सकों (Specialist Physicians) की सेवाओं को उपलब्ध कराया जाएगा।

शिवराज कैबिनेट

भोपाल, डेस्क रिपोर्ट। मध्यप्रदेश (Madhya Pradesh) में लगातार बिगड़ती स्वास्थ्य सेवाओं को लेकर प्रदेश की शिवराज सरकार (Shivraj Government) अब दुरुस्त करने की तैयारी में है। इसके लिए स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण विभाग (Health and Family Welfare Department) द्वारा स्त्री रोग, शिशु रोग और मेडिसिन विशेषज्ञ (Gynecology, Pediatrics And Medicine Specialist) की सेवाओं को टेलीमेडिसिन (Telemedicine) के माध्यम से प्रदेश के प्राइमरी हेल्थ सेंटर (Primary Health Center) में देने की योजना शुरू की जा रही है।

यह भी पढ़े… सिंधिया समर्थक मंत्री की पत्नी को शिवराज सरकार का तोहफा, कांग्रेस ने कसा तंज

दरअसल, यह जानकारी स्वास्थ्य मंत्री(Health Minister) डॉ. प्रभुराम चौधरी (Dr.Prabhuram Chaudhary)  ने स्वास्थ्य विभाग और ग्लोबल डिजिटल डिस्पेंसरी (Department of Health and Global Digital Dispensary) के अधिकारियों के साथ समीक्षा बैठक में दी। इसके साथ ही उन्होंने स्वास्थ्य सुविधाओं और टेली मेडिसन के माध्यम से देने के तरीके पर विस्तार से चर्चा करते हुए जरूरी निर्देश दिए। शुरुआत में रीवा, सागर और जबलपुर संभाग (Rewa, Sagar and Jabalpur Divisions) के 550 प्राथमिक उप स्वास्थ्य केंद्रों पर ग्लोबल डिजिटल डिस्पेंसरी द्वारा विशेषज्ञ चिकित्सकों (Specialist Physicians) की सेवाओं को उपलब्ध कराया जाएगा।

चौधरी ने कहा कि आम आदमी खुद कहे कि उसे इलाज मिल रहा है। जिन बीमारियों के इलाज के लिए उसे बड़े शहरों में जाना पड़ता था ऐसी बीमारियों का इलाज अब उसके पास के प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र मिलना शुरू हो जाएगा। उप स्वास्थ्य केंद्र पर जांचों के लिए लेब, पैथालॉजी और विशेषज्ञ (Lab, Pathology And Specialist) के परामर्श पर दी जाने वाली मेडिसिन रहेंगी।  प्रदेश के नागरिकों, विशेषकर ग्रामीण क्षेत्र के लोगो को विशेषज्ञ चिकित्सकों से उनके गांव, घर के पास के स्वास्थ्य केन्द्र पर इलाज की सुविधा उपलबध करवाने के लिए सरकार की योजना है।

यह भी पढ़े… शिवराज सरकार का छात्रों को बड़ा तोहफा, स्कूल शिक्षा विभाग को सौंपा यह जिम्मा

इसी के तहत टेली मेडिसन से इलाज की यह व्यवस्था इसी माह से शुरू होने जा रही है। संस्था को लक्ष्य दिया है कि सभी जरूरी व्यवस्थाओं को सुनिश्चत कर चरण बद्द क्रम में सेवा देना शुरू करे। टेली मेडिसन सेवा देने के लिए 20 केन्द्रों के लिए तीनो विशेषज्ञता का एक एक विशेषज्ञ रहेगा। स्वास्थ्य मंत्री डॉ. चौधरी ने कहा कि योजना क्रियान्वयन का जायजा लेने वह खुद स्वास्थ्य केंद्र पर जाएंगे।