माखनलाल विश्वविद्यालय में हुए ये बड़े बदलाव, प्रवेश के लिए मिल रहे अधिक आवेदन

These-major-changes-in-this-session-at-Makhanlal-University

भोपाल।

मध्यप्रदेश की राजधानी भोपाल में स्थित पत्रकारिता के एकमात्र शैक्षणिक संस्थान माखनलाल चतुर्वेदी पत्रकारिता विश्वविद्यालय में विधानसभा चुनाव के बाद शैक्षिणक सत्र में हुए कई बदलावों के कारण विद्यार्थियों के कामकाज प्रभवित हुए हैं।   

विवि प्रशाषन ने एक अन्य महत्वपूर्ण बदलाव किया है। एक ओर स्नातक के लिए प्रवेश पर रोक लगा है तो वहीँ स्नातकोत्तर विषयों में प्रवेश लेने के वाले छात्रों की संख्या में बढ़ोतरी हुई है। प्रति सीट प्रवेश लेने वालों का अनुपात पिछले वर्ष के 3.82 से बढ़कर 4.88 हुआ है। 

मध्य प्रदेश की कमलनाथ सरकार ने आते ही जिस तरह से अपनी प्राथमिकताओं में पत्रकारिता विश्वविद्यालय को रखा और एक पत्रकार को वहां का कुलपति नियुक्त किया तभी से यह स्पष्ट था कि इस विश्वविद्यालय में आने वाले समय में विचारधारा की लड़ाई से आगे जाकर भी बहुत कुछ होने वाला है।विश्वविद्यालय को एक विचारधारा विशेष का केंद्र बना कर जिस तरह से कार्यकर्ताओं की नियुक्ति की गई और अनुषांगिक संगठनों को लाखों रुपये दिए गए उस पर कांग्रेस सरकार की नजर पड़ना लाज़िमी था।

दीपक के कुलपति बनने से हुए कई बदलाव

दीपक तिवारी के कुलपति बनने के बाद बहुत से परिवर्तन हुए है। जिनमें सभी कोर्स के पाठ्यक्रम को बदलना मुख्य बदलाव है। पाठ्यक्रम के बदलाव को लेकर विश्वविद्यालय के सभी शिक्षक ना केवल उत्साहित थे बल्कि उन्होंने तीन महीने के कम समय में एक गुणवत्तापूर्ण अंतरराष्ट्रीय स्तर का पाठ्यक्रम तैयार किया। कहने को तो पत्रकार कुलपति ने बहुत किए लेकिन विश्विद्यालय की बिगड़ी छवि को कैसे ठीक नहीं कर सके। नए सत्र में बढ़े हुए प्रवेश आवेदनों ने उनका काम आसान कर दिया। 

पिछले वर्षों की तुलना में ज्यादा ऐडमिशन के लिए अधिक आवेदन  

उम्मीद की जा रही थी कि ऐसे समय जब यह माना जा रहा था कि विश्वविद्यालय की छवि ईओडब्ल्यू की जांच के कारण ख़राब हुई है उससे नए छात्र यहां एडमिशन लेने में संकोच करेंगे। लेकिन सूत्रों से प्राप्त जानकारी के अनुसार विश्वविद्यालय में पिछले वर्षों की तुलना में ज्यादा ऐडमिशन फॉर्म मिले है। इसे देख ऐसा लग रहा है कि प्रवेश के लिए आवेदन कर रहे छात्रों और उनके माता-पिता को विश्वविद्यालय में हो रहे परिवर्तनों से खुश हैं। 

सबसे अधिक विवादित कुलपति रहे कुठियाला

विश्वविद्यालय में अब तक का सबसे ज्यादा विवादास्पद समय, दस सालों तक एक-छत्र राज्य चलाने वाले आरएसएस के नुमाइंदे और स्वयंसेवक प्रोफेसर बृजकिशोर कुठियाला का रहा। राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ से जुड़े होने के कारण कुठियाला को एंथ्रोपोलॉजी का प्रोफेसर होने के बावजूद पत्रकारिता विश्वविद्यालय का कुलपति बनाया गया था।

कुठियाला पर हैं ये गंभीर आरोप 

कुठियाला पर अनेक तरह के आरोप भी लगे। अपनी मनमर्जी चलाने और शराब के बिलों के अलावा आईफोन के फ़र्ज़ी पेमेंट एवं विदेश यात्राओं के दौरान अपनी पत्नी के टिकट विश्वविद्यालय के खर्चे पर लेना इत्यादि जैसे गंभीर आरोप भी उन पर लगे हैं। सत्ता में आने के बाद कांग्रेस ने एक समिति गठित कर के विश्वविद्यालय की पूरी अनियमितताओं का जांच का जिम्मा मामला EOW पुलिस की आर्थिक अपराध शाखा को सौंपा है।