विवादों में घिरा कटनी कलेक्टर का यह आदेश , अतिथि शिक्षकों में आक्रोश

कटनी कलेक्टर (Katni Collector ) ने अपने आदेश में अतिथि शिक्षकों को फ्री में आकर स्कूल में पढ़ाने की बात कही है।इसमें निःशुल्क सेवा देने उपयुक्त लोगो को प्राचार्य द्वारा खोजने के आदेश दिया गया है।

भोपाल, डेस्क रिपोर्ट। चुनावी की सियासी हलचल के बीच कटनी जिले (Katni district) के कलेक्टर शशिभूषण सिंह (Collector Shashibhushan Singh) का एक आदेश विवादों में घिर गया है।  कलेक्टर के इस आदेश पर अतिथि शिक्षक संघ (Guest teachers union ने नाराजगी जताई है और प्रशासन से आदेश वापस लेने की मांग की है।

कटनी कलेक्टर (Katni Collector ) ने अपने आदेश में अतिथि शिक्षकों को फ्री में आकर स्कूल में पढ़ाने की बात कही है।इसमें निःशुल्क सेवा देने उपयुक्त लोगो को प्राचार्य द्वारा खोजने के आदेश दिया गया है।कलेक्टर ने शिक्षक विहीन विद्यालय में विद्यार्थियों के शैक्षणिक व्यवस्था के लिए यह आदेश जारी किया है।कटनी कलेक्टर ने ग्रामीण विद्यालयों के लिए यह आदेश दिया।

जारी आदेश में लिखा है कि  शैक्षणिक व्यवस्था के लिए आपके ग्राम में स्नातक/स्नातकोत्तर उत्तीर्ण विद्यार्थी जो आपके विद्यालय में निशुल्क अध्यापन कार्य करने के लिए इच्छुक हो को निर्धारित प्रक्रिया पूरी करके विद्यार्थियों को पढ़ाने की अनुमति प्रदान करें। कटनी कलेक्टर के इस आदेश को RTE के नियमों के खिलाफ माना जा रहा है। अतिथि शिक्षक संघ ने इसे कोरोना संकटकाल में अतिथि शिक्षकों का रोजगार छीनने बताया है।

कांग्रेस ने जहां इस आदेश को शिवराज सरकार पर अतिथि शिक्षक व्यवस्था को प्रदेश में बंद करने का आरोप लगाया है वही बीजेपी का कहना है कि कटनी कलेक्टर ने नवाचार के लिए यह आदेश जारी किया है। इसके पीछे अतिथि शिक्षकों का पद खत्म करने का कोई मकसद नहीं है।

MP Breaking News

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here