बुरहानपुर: 7 दिन के बंद का विरोध, विपक्षी दलों ने बंद के आदेश को बताया तुगलकी फरमान

वही आम आदमी पार्टी महापौर प्रत्याशी प्रतिमा दीक्षित ने भी प्रशासन के इस निर्णय का विरोध किया है।

शेख रईस, बुरहानपुर। मध्यप्रदेश के बुरहानपुर में गुरुवार को रात में जारी हुए आदेश में 7 दिनों के बंद का ऐलान किया गया जो कि 15 अप्रेल गुरुवार रात्रि 10 बजे से 23 अप्रेल सुबह 6 बजे तक रहेगा। जिसका कांग्रेस जिलाध्यक्ष अजयसिंह रघुवंशी ने विरोध कर प्रशासन से इस तुगलकी फरमान को वापस लेने की बात कही आपको बता दे आज जिले के प्रभारी मंत्री विजयशाह ने जिला मुख्यालय में जिला क्राइसेस कमेटी की बैठक में भी लॉक डाउन को लेकर कांग्रेस जिलाध्यक्ष अजयसिंह रघुवंशी विधायक ठा. सुरेंद्र सिंह ने विरोध किया था।

वही देर रात्रि में जारी आदेश का चौतरफा विरोध किया जा रहा है एमआईएम नेता फरीद काजी ने सभी दलों को एक साथ आ कर प्रशासन के इस निर्णय का विरोध करने का आह्वान किया। वही आम आदमी पार्टी महापौर प्रत्याशी प्रतिमा दीक्षित ने भी प्रशासन के इस निर्णय का विरोध किया है।

Read More: कोरोना से स्थिति गंभीर, 6 जिलों में टोटल लॉकडाउन, कोरोना कर्फ्यू में होगी सख्ती

कांग्रेस ने जारी बयान में शहर से जुड़े सभी पहलुओं को दर्शाते हुए कहा कि

  • आधी रात को कर्फ्यू का फैसला आश्चर्यजनक….?
  • प्रशासन के अनुसार एक माह में मात्र 4 मौत.??कोई गंभीर मरीज नही..?
  • फिर आधी रात को कोरोना कर्फ्यू का फैसला क्यों..?
  • आम जनता फैसले से अनभिज्ञ होने से कोई तैय्यारी नही.?
  • प्रतिदिन मजदूरी कर घर चलाने वालों का क्या..??
  • शहर के जनप्रतिनिधियों से कोई चर्चा नही.?
  • अगर कर्फ्यू का फैसला लेना ही था,तो क्राइसिस के बैठक में ये मुद्दा क्यों नही आया..?
  • जबकि बैठक में जिला कांग्रेस अध्यक्ष अजयसिंह रघुवंशी ने खुला विरोध किया कि बुरहानपुर में कर्फ्यू ना लगाया जाए.?
  • मात्र भाजपाइयो की मिलीभगत से जनता को परेशान करने का तुगलकी निर्णय..?
  • ऐसे तुगलकी फरमान का कांग्रेस पुरजोर विरोध करती है,ओर तत्काल कर्फ्यू हटाने की मांग करती है।