Damoh News : टिकिट से पहले शुरू हुआ कसमें वादों का दौर, सोशल मीडिया पर वीडियो वायरल

Amit Sengar
Published on -

Damoh News : मध्य प्रदेश में विधानसभा चुनाव के लिए राजनैतिक दल पूरी तरह से सक्रिय है आरोप प्रत्यारोप का  दौर जारी है तो सियासी पारा भी चढ़ा हुआ है ऐसे में दोनों प्रमुख दल भाजपा और कांग्रेस एक एक सीट पर अपने समीकरण बनाने में जुटे हैं तो दोनों ही दलों को उम्मीद सिर्फ सत्ता हासिल करना है। ऐसे में अब सूबे में कसमो वादों का दौर भी शुरू हो गया है। कहते हैं दूध का जला छांछ भी फूंक फूंक कर पीता है और इसका उदाहरण प्रदेश के दमोह में देखने को मिल रहा है जहां 2018 के विधान चुनाव में पराजित हुई कांग्रेस फिर कोई भूल दोहराने की बजाए खुद को एकजूट करने में जुटी है।

यह है मामला

जिले की पथरिया सीट से कांग्रेस के तमाम उम्मीदवारों का एक वीडियो सामने आया है और इस वीडियो में टिकिट के तमाम दावेदार मंदिर में सामूहिक कसम खा रहे हैं कि टिकिट जिसे भी मिले जीतना कांग्रेस ही चाहिए। दरअसल पथरिया सीट पर कांग्रेस की टिकिट पाने की चाहत रखने वाले लोगों की लंबी कतार है। साल 2018 के आम चुनाव में यहां से कांग्रेस को करारी हार का सामना करना पड़ा था और कांग्रेस चौथे नम्बर पर रही थी, इस सीट से बीएसपी की चर्चित और दबंग नेता रामबाई सिह ने जीत हासिल की थी। चुनाव में कांग्रेस की इस स्थिति के पीछे की वजह पार्टी के नेताओ का बागी होकर चुनाव लड़ना था और इस बगावत का परिणाम ये हुआ कि कांग्रेस को शर्मिंदगी झेलनी पड़ी  हालांकि पुराने परिणामो के सामने होने के बाद भी कांग्रेस में टिकिट के दावेदारों में कमी नही आई और आधा दर्जन से ज्यादा कद्दावर नेता यहां से टिकिट मांग रहे हैं ऐसे में फिर एक बार पार्टी मुश्किल में है कि पुराना इतिहास फिर न दोहराया जाए लिहाजा अब तमाम दावेदार ही एकजुट होने की राह पर है।

पथरिया के हरसिद्धि मंदिर में तमाम दावेदारों ने एक बैठक की और फिर हाथ में गंगाजल लेकर सौगंध ली कि टिकिट किसी को भी मिले कोई बगावत नही करेगा और पूरी ईमानदारी से कांग्रेस प्रत्याशी के लिए काम करेगा ताकि पार्टी यहां से जीते। इस कसम वाला वीडियो बाकायदा इन दावेदारों ने जारी भी किया है। बहरहाल राजनीति में कसमो वादों का कितना महत्व है ये सब जानतें हैं लेकिन इस बार चर्चाओं का बाजार जरूर गर्म है औऱ देखना होगा कि मंदिर में खाई गई कसम चुनाव तक कितनी असरदायक रह पाती है।
दमोह से दिनेश अग्रवाल की रिपोर्ट


About Author
Amit Sengar

Amit Sengar

मुझे अपने आप पर गर्व है कि में एक पत्रकार हूँ। क्योंकि पत्रकार होना अपने आप में कलाकार, चिंतक, लेखक या जन-हित में काम करने वाले वकील जैसा होता है। पत्रकार कोई कारोबारी, व्यापारी या राजनेता नहीं होता है वह व्यापक जनता की भलाई के सरोकारों से संचालित होता है। वहीं हेनरी ल्यूस ने कहा है कि “मैं जर्नलिस्ट बना ताकि दुनिया के दिल के अधिक करीब रहूं।”

Other Latest News