दमोह, आशीष कुमार जैन। दमोह (Damoh) पुलिस ने एक अंधे हत्याकांड का खुलासा किया है। हटा थाना अंतर्गत ग्राम जमुनिया हटा रोड पर मिली अज्ञात व्यक्ति की लाश कि जहां पहचान की गई। वहीं उसके हत्यारों को भी पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है। हत्यारा कोई और नहीं मृतक का साला है और वह सीआरपीएफ में पदस्थ भी है।

Read also…पेगासस मामले पर बोले नकुलनाथ, कहा- बहुत पहले से कई दिग्गजों की जासूसी करा रही बीजेपी

जानकारी के अनुसार जिले के हटा थाना अंतर्गत आने वाले हटा जमुनिया मार्ग पर एक अज्ञात व्यक्ति की लाश मिली थी। जिसकी पहचान 45 पंचम अहिरवार के रूप में हुई थी। वहीं पुलिस ने इस मामले पर आरोपी की पतासाजी और पहचान बताने पर 10 हजार का इनाम भी रखा था। अब पुलिस ने इस हत्याकांड का सनसनीखेज खुलासा किया है। इस हत्याकांड में मृतक का साला भरत अहिरवार ही हत्यारा निकला।

बहन के कारण दिया वारदात को अंजाम
दमोह पुलिस अधीक्षक डी आर तेनिवार ने बताया कि भरत अहिरवार सीआरपीएफ में ग्वालियर में पदस्थ है। जिसने जीजा द्वारा अपनी बहन को परेशान किए जाने के चलते इस हत्याकांड को अंजाम दिया था। भरत के अलावा उसके सहयोगी नरेंद्र अहिरवार एवं संदीप पाली को भी गिरफ्तार किया है। तीनों आरोपियों को गिरफ्तार कर पुलिस ने न्यायालय में पेश किया है। इस संदिग्ध हत्याकांड में जहां साले ने अपने जीजा की हत्या महज जीजा द्वारा बहन को परेशान करने के लिए की थी। आरोपी ग्वालियर सीआरपीएफ में नौकरी भी करता है।

Read also… अधिकारी और नेता नहीं उठा सकेंगे सेवढ़ा विश्राम गृह की सुविधा, यह है कारण