कोरोना का कहर, देवास में बिखरा गर्ग परिवार पर

एक सप्ताह में परिवार के तीन लोगों का जाना छोटी बहु रेखा गर्ग से बर्दाश्त नहीं हुआ और उसने फांसी लगाकर अपनी जीवन लीला समाप्त कर ली।

देवास, अमिताभ शुक्ला। कोरोना (Corona) का कहर किस तरह परिवारों पर वज्रपात बनकर टूट रहा है। इसकी बानगी देवास (Dewas) में देखने को मिली जहां पर कई परिवार इसकी चपेट में आकर काल का ग्रास बन गए हैं। वही देवास के अग्रवाल समाज के अध्यक्ष व्यापारी बाल किशन अग्रवाल के घर को तो जैसे कोरोना की बुरी नजर ही लग गई, जहां एक के बाद एक व्यक्ति अपनी जान गवां बैठा। बाल किशन की पत्नी का पिछले दिनों आठ दिन पहले कोरोना की वजह से निजी अस्पताल में निधन हुआ, उसके बाद उनके बेटे संजय गर्ग की मृत्यु हुई, इसी के बाद उनके छोटे बेटे स्वप्नेश गर्ग की भी मृत्यु हो गई। ऐसे करके एक सप्ताह में परिवार के तीन लोगों का जाना छोटी बहु रेखा गर्ग से बर्दाश्त नहीं हुआ और उसने फांसी लगाकर अपनी जीवन लीला समाप्त कर ली।

यह भी पढ़ें….राहुल गांधी के बाद कांग्रेस सांसद शशि थरुर कोरोना पॉजिटिव, ट्वीट कर दी जानकारी

गर्ग परिवार में सबसे पहले व्यापारी की पत्नी चंद्रकला गर्ग का निधन हुआ, उसके सिर्फ 2 दिन बाद ही उनके बेटे संजय और फिर छोटे बेटे स्वप्नेश कोरना की चपेट में आने से स्वर्ग सिधार गए। अपने पति की मृत्यु के बाद इसी परिवार की छोटी बहू रेखा गर्ग ने भी संभवत इसी डिप्रेशन में फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली। 8 दिन के भीतर गर्ग परिवार में 4 मौत हो चुकी है , तीन लोग कोरोना वायरस का काल का ग्रास बने। वहीं इसी परिवार की एक बहू ने भी इन्ही सभी बातों से संभवत डिप्रेशन में आकर आत्महत्या कर ली और पूरा परिवार ही समाप्त हो गया। अब परिवार में सिर्फ एक बड़ी बहू , व्यापारी बालकिशन गर्ग और दोनों बेटों के बच्चे बचे हैं । यह परिवार सिविल लाइन थाना क्षेत्र के मैना श्री कॉलोनी में रहता है। इस घटना से साफ अंदाजा लगाया जा सकता है कि कोरोना किस तरह से परिवारों पर वज्रपात बनकर टूट रहा है।