धार जमीन घोटाला मामले में ED का बड़ा एक्शन, 151 करोड़ से अधिक की संपत्ति कुर्क, पढ़ें पूरी खबर

धार भूमि स्कैम को लेकर ईडी ने बड़ी कार्रवाई की है। सुनील रत्नाकर, पीटर दास और अन्य की संपत्तियों को कुर्क किया गया है।

Manisha Kumari Pandey
Published on -
Dhar land Scam

ED Action In MP: मध्य प्रदेश के धार जिले के बहुचर्चित सेंट टेरेसा जमीन घोटाला मामले (Dhar Land Scam) में प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) ने बड़ा एक्शन लिया है। सुनील रत्नाकर, पीटर दास और अन्य की 56 अंचल संपत्तियों और दो चल संपत्तियां को अस्थायी रूप से कुर्क किया गया है। वर्तमान में इसकी कीमत 150 करोड़ रुपये से भी अधिक है। इस बात कि जानकारी ईडी ने सोशल मीडिया पर एक पोस्ट साझा करते हुए दी है।

मामले में 32 आरोपी

250 करोड़ रुपये जमीन घोटाले का यह मामला काफी पुराना  है। पुलिस द्वारा 16500 पेज का चालान पेश किया गया था। जिसमें कुल 32 आरोपियों के नाम शामिल है। सुधीर जैन, उनकी पत्नी आयुषी, सुधीर जैन का साला अंतिक, सुनील रत्नाकर पीटर दास,  तत्कालीन एसडीएमसी एसके गुप्ता और इंजीनियर सुधीर ठाकुर समेत कई अधिकारियों और रसूखदारों को आरोपी बताया गया था।

पिछले साल ईडी ने 4 स्थानों पर मारा था छापा

नवंबर 2021 में पुलिस ने रसूखदार परिवारों के घर में छापा भी मारा था और 12 लोगों की गिरफ्तारी हुई थी। इसके बाद अगस्त 2023 में भी ईडी की टीम ने इस मामले को चार स्थानों पर छापा मारा था। सेंट टेरेसा परिषद में स्थित सुधीर दास के निवास, सुधीर जैन के शोरूम, सुधीर जैन के भाई सुनील जैन और उनके भतीजे सिद्धार्थ जैन और वकील जावेद के निवास पर ईडी की टीम ने दबिश की थी।


About Author
Manisha Kumari Pandey

Manisha Kumari Pandey

पत्रकारिता जनकल्याण का माध्यम है। एक पत्रकार का काम नई जानकारी को उजागर करना और उस जानकारी को एक संदर्भ में रखना है। ताकि उस जानकारी का इस्तेमाल मानव की स्थिति को सुधारने में हो सकें। देश और दुनिया धीरे–धीरे बदल रही है। आधुनिक जनसंपर्क का विस्तार भी हो रहा है। लेकिन एक पत्रकार का किरदार वैसा ही जैसे आजादी के पहले था। समाज के मुद्दों को समाज तक पहुंचाना। स्वयं के लाभ को न देख सेवा को प्राथमिकता देना यही पत्रकारिता है। अच्छी पत्रकारिता बेहतर दुनिया बनाने की क्षमता रखती है। इसलिए भारतीय संविधान में पत्रकारिता को चौथा स्तंभ बताया गया है। हेनरी ल्यूस ने कहा है, " प्रकाशन एक व्यवसाय है, लेकिन पत्रकारिता कभी व्यवसाय नहीं थी और आज भी नहीं है और न ही यह कोई पेशा है।" पत्रकारिता समाजसेवा है और मुझे गर्व है कि "मैं एक पत्रकार हूं।"

Other Latest News