डिंडौरी : मध्याह्न भोजन के लिए 10 हजार की रिश्वत लेते प्रधानाध्यापक चढ़े लोकायुक्त के हत्थे

प्रधानाध्यापक अरविंद कुमार मध्याह्न भोजन को सुचारू रूप से चालू रखने के लिए रिश्वत की मांग कर रहा था।

जबलपुर, संदीप कुमार। जबलपुर लोकायुक्त पुलिस ने डिंडोरी जिले के समनापुर विकासखंड में पदस्थ प्रधानाध्यापक को 10000 रुपए की रिश्वत लेते हुए रंगे हाथों गिरफ्तार किया है। प्रधानाध्यापक का नाम अरविंद कुमार है जो कि मध्याह्न भोजन को सुचारू रूप से चालू रखने के लिए रिश्वत की मांग कर रहा था।

यह भी पढ़ें…. बैतूल : मुर्गे-मुर्गियों की चोरी में आया विधायक का भी नाम !

शासकीय स्कूल चाँदरानी में मध्यान्ह भोजन बांटने वाले मूलचंद जो कि चांदरानी विकासखंड समनापुर के रहने वाले हैं, उन्होंने जबलपुर लोकायुक्त एसपी संजय साहू से शिकायत की थी कि माध्यमिक शाला चांदरानी विकासखंड प्रधानाध्यापक अरविंद कुमार पुशाम के द्वारा मध्यान भोजन को चालू रखने के लिए लगातार रिश्वत की मांग की जा रही है, उन्होंने बताया कि रिश्वत ना देने के चलते उन्हें धमकी दी जा रही थी कि मध्यान भोजन का काम उनसे छीन लिया जाएगा। जबलपुर लोकायुक्त एस.पी संजय साहू ने शिकायतकर्ता मूलचंद के आरोपों की जांच की और उसके बाद फिर आज दोपहर जबलपुर लोकायुक्त की टीम डिंडोरी जिले के माध्यमिक शाला चांदरानी विकासखंड समनापुर पहुंची और प्रधानाध्यापक को 10000 रु की रिश्वत के साथ गिरफ्तार किया। जबलपुर लोकायुक्त इस कार्यवाही में टीआई स्वप्निल दास, कमल सिंह उईके सहित सात सदस्य मौजूद थे।