सड़कों पर लगी दुकानों से यातायात बाधित, पुलिस ने काटा चालान

प्रकाश मिश्रा/डिंडोरी

डिंडोरी जिला मुख्यालय का उप नगरीय क्षेत्र कहलाने वाला हंस नगर साकेत नगर के मध्य के मुख्य मार्ग में इन दिनों यातायात की व्यवस्था पूरी तरह चरमरा गई है। यातायात का अमला प्रतिदिन वहां की भीड़ को हटाने का प्रयास करता है लेकिन अमले के वापस मुड़ते ही लोग फिर सड़क पर अपनी दुकान लेकर आ जाते हैं।

नर्मदा पुल पार मुड़की की ओर जाने वाले मुख्य मार्ग में यातायात का दबाव लगातार बढ़ता जा रहा है। बता दें कि नर्मदा पुल पार का यह क्षेत्र देवरा ग्राम पंचायत के अंतर्गत आता है। ग्राम पंचायत के द्वारा इस पूरे क्षेत्र को व्यवस्थित करने में कोई रूचि नहीं ली जा रही है। बड़ी संख्या में ग्रामीण क्षेत्रों से दोपहिया और चार पहिया वाहन इस मार्ग से होकर जिला मुख्यालय की ओर गुजरते हैं। वहीं ऑटो और टैक्सियों को खड़े होने के लिए स्टैंड की व्यवस्था ना होने के कारण चालकों के द्वारा मुख्य मार्ग पर ही अपने वाहन खड़े कर दिए जाते हैं जिससे आने जाने वाले लोगों को काफी परेशानी का सामना करना पड़ता है। यातायात प्रभारी राहुल तिवारी ने बताया कि यातायात के द्वारा इस क्षेत्र में आवागमन को व्यवस्थित करने के लिए लगातार पॉइंट लगाए जाते हैं और चालानी कार्यवाही भी की जाती है। दुकान संचालकों को हिदायत भी दी जाती है कि मुख्य मार्ग पर वाहन खड़े ना करें। लेकिन वाहन स्टैंड खासतौर से ऑटो टैक्सी स्टैंड ना होने के कारण लगभग सभी वाहन मुख्य मार्ग पर ही खड़े हो जाते हैं। इसके अलावा स्थानीय व्यापारियों के द्वारा अपनी दुकानों की निर्धारित सीमा से आगे बढ़ाकर दुकान लगा ली जाती हैं जिसके कारण खड़े होने की जगह नहीं रह जाती और यातायात बाधित होता।

यातायात पुलिस ने काटे चालान

गुरुवार की दोपहर यातायात प्रभारी राहुल तिवारी ने अमले के साथ क्या पॉइंट लगाकर चालानी कार्रवाई की। बिना मास्क लगाए वाहन चलाने वाले लोगों को रोका और हिदायत दी, इसके साथ ही मास्क का वितरण भी किया गया। यातायात नियमों के खिलाफ वाहन चलाने वाले वाहन चालकों के विरुद्ध चालानी कार्यवाही भी की गई। यातायात प्रभारी राहुल तिवारी ने मीडिया से रूबरू होते हुए कहा कि यहां पर ऑटो स्टैंड की व्यवस्था और नहीं है जिसके लिए उन्होंने ग्राम पंचायत को भी पत्र लिखा है। जब तक ऑटो स्टैंड व्यवस्थित नहीं हो जाता तब तक वैकल्पिक व्यवस्था बनाकर यातायात को दुरुस्त किया जाएगा। साथ ही स्थानीय दुकानदारों को भी हिदायत दी गई है कि वे अपनी सीमा में रहकर की दुकानों का संचालन करें।