Gwalior News : पुलिस कस्टडी मौत मामले में टीआई और एएसआई भी निलंबित

ग्वालियर, अतुल सक्सेना।  ग्वालियर की इंदरगंज थाना पुलिस (gwalior police) द्वारा सटोरिया होने के शक में देर शाम हिरासत में लिए गए एक युवक की देर रात मौत के बाद पुलिस अधीक्षक अमित सांघी ने टीआई और एएसआई को भी निलंबित कर दिया, इससे पहले युवक को पकड़कर लाने वाले तीन सिपाहियों को एसपी ने पहले ही निलंबित कर दिया था।  घटना की न्यायिक जांच (judicial inquiry) शुरू हो गई है और एक विभागीय जांच भी अलग से की जाएगी। पुलिस ने भारी सुरक्षा के बीच मृतक का पीएम कराकर अंतिम संस्कार करा दिया है।  उधर मृतक की पत्नी दोषियों पर हत्या का मामला दर्ज करने और सरकारी नौकरी की मांग कर रही है।

गौरतलब है कि इंदरगंज थाना पुलिस (gwalior police)के तीन सिपाही मुकेश शर्मा, श्याम जाट और नीरज यादव सोमवार की देर शाम फलका बाजार से सोनू बंसल और उसके एक साथी को पकड़कर लाये थे, पुलिस का आरोप है कि सोनू सट्टे का अवैध कारोबार से जुड़ा है , पुलिस के मुताबिक  सोनू की जेब से सट्टे की पर्चियां निकली थी। बताया जा रहा है कि तीनों सिपाही आरोपी युवकों को थाने की जगह थाने के ऊपर बने मिनी कंट्रोल रूम में ले गए यहाँ करीब तीन घंटे दोनों आरोपियों से सिपाही पूछताछ करते रहे।

ये भी पढ़ें – MP News: केंद्र के बाद अब मप्र सरकार का बड़ा फैसला, अधिसूचना जारी

पूछताछ के दौरान ही सोनू की तबियत बिगड़ गई, उसे पानी पिलाया गया तो उसे उल्टियां होने लगी।  सिपाही उसे जयारोग्य अस्पताल लेकर भागे जहाँ डॉक्टरों ने उसे मृत घोषित कर दिया। पुलिस ने फिर युवक के शव को देर रात पीएम हाउस में रखवा दिया।  शव को पीएम हाउस में रखने के बाद पुलिस ने आधी रात के बाद करीब 1 बजे परिजनों को घटना की सूचना दी।

Gwalior News : पुलिस कस्टडी मौत मामले में टीआई और एएसआई भी निलंबित

ये भी पढ़ें – Gwalior News : पुलिस कस्टडी में युवक की मौत, न्यायिक जांच शुरू, सिपाही निलंबित

उधर मृतक सोनू बंसल की गर्भवती पत्नी डॉली का कहना है कि उसका पति सोनू प्राइवेट नौकरी करता था सोमवार को किसी काम से 8 साल बेटी के साथ बाजार गया था तभी फलका बाजार में  सिपाही मुकेश शर्मा, श्याम जाट और नीरज यादव ने उसे पकड़ लिया और एक अन्य सिपाही बेटी को घर गेंडेवाली सड़क पर छोड़ गया। सोनू के घर में दो बेटियां एक आठ साल और एक छह साल की और एक बेटा है साथ ही पत्नी आठ महीने की गर्भवती है।  डॉली का आरोप है कि पुलिस  ने उसके पति की हत्या की है दोषियों पर हत्या का प्रकरण दर्ज किया जाये।  डॉली का कहना है कि उसके परिवार में उसका पति ही कमाने  वाला था उसकी मौत हो गई इसलिए उसे सरकारी नौकरी दी जाये।

Gwalior News : पुलिस कस्टडी मौत मामले में टीआई और एएसआई भी निलंबित

 ये भी पढ़ें – केंद्रीय मंत्री का बड़ा बयान- पीएम के राजनीतिक अंत्योदय का मैं प्रत्यक्ष उदाहरण

घटना की सूचना मिलते ही एसपी अमित सांघी (SP Amit Sanghi) देर रात ही इंदरगंज थाने पहुँच गए और उन्होंने घटना की न्यायिक जांच कराने के लिए पत्र लिख दिया एसपी अमित सांघी ने एमपी ब्रेकिंग न्यूज़ को बताया कि रात करीब ढाई बजे मजिस्ट्रेट साहब थाने आ गए और जांच शुरू हो गई।  एसपी ने कहा कि न्यायिक जांच में जो भी दोषी पाया जायेगा उसके खिलाफ कार्रवाई की जाएगी। अभी तीनों सिपाहियों को निलंबित कर दिया गया है।

Gwalior News : पुलिस कस्टडी मौत मामले में टीआई और एएसआई भी निलंबित

सिपाहियों को निलंबित करने के बाद एसपी ने इंदरगंज थाने के टीआई राजेंद्र सिंह परिहार और बीट के एएसआई बृजलाल को भी जिम्मेदार मानते हुए दोनों को भी निलंबित कर दिया। एडिशनल एसपी सतेंद्र सिंह तोमर ने बताया कि मृतक का पीएम कराकर उसका अंतिम संस्कार करा दिया गया है। उन्होंने कहा कि घटना की न्यायिक जांच चल रही है विभागीय जांच अलग से होगी। परिवार की कैसे मदद की जाये इसपर भी विचार किया जाएगा।