सांसद की पसंद “कमल”को शहर में कमल दल की कमान, ग्रामीण में निखारेंगे “कौशल”

ग्वालियर। अतुल सक्सेना| भारतीय जनता पार्टी (BJP) के प्रदेश अध्यक्ष विष्णु दत्त शर्मा (VD Sharma) ने शनिवार की रात 22 जिलों में 24 जिला अध्यक्षों की नियुक्ति की घोषणा कर दी। इस सूची में ग्वालियर (Gwalior) जिले में महानगर और ग्रामीण में जिन अध्यक्षों की नियुक्ति की गई है वो सांसद विवेक नारायण शेजवलकर की पसंद हैं। रविवार को सुबह से ही दोनों अध्यक्षों के स्वागत के लिए नेताओं में जबरदस्त उत्साह देखा गया। खास बात ये है कि शहर अध्यक्ष का स्वागत करने तो बड़ी संख्या में सिंधिया समर्थक नेता पहुंचे।

भाजपा जिला अध्यक्षों की नई सूची में ग्वालियर महानगर के लिए कमल माखीजानी को जगह मिली है। उनका प्रमोशन हुआ है वे लगातार तीन बार से जिले के महामंत्री हैं। सहज और सरल स्वभाव वाले कमल माखीजानी का वैसे तो ग्वालियर से जुड़े सभी भाजपा नेताओं से अच्छा तालमेल है लेकिन सांसद विवेक शेजवलकर के वे सबसे नजदीक माने जाते हैं। हालांकि जिला अध्यक्ष के लिए और भी दावेदार थे लेकिन बताया जाता है कि सांसद शेजवलकर ने अपनी वीटो का इस्तेमाल कर केवल सिंगल नाम को आगे बढ़ाया और कमल माखीजानी के नाम को प्रदेश नेतृत्व ने हरी झंडी दे दी। इसी तरह ग्रामीण अध्यक्ष के लिए कौशल शर्मा के नाम पर भी सांसद विवेक शेजवलकर की सहमति थी। वैसे कौशल शर्मा स्वास्थ्य मंत्री डॉ नरोत्तम मिश्रा के खास हैं वे जिला सहकारी बैंक के अध्यक्ष रह चुके हैं।

सिंधिया समर्थक भी पहुंचे स्वागत करने
कमल माखीजानी और कौशल शर्मा की नियुक्ति की सूचना मिलते ही शनिवार रात से उन्हें बधाई देने वालों में ही मच गई। सुबह होते ही नेता और समर्थक उनके घर फूल मालाएं लेकर पहुँच गए। डबरा में भाजपा नेताओं ने कौशल शर्मा जा जोरदार स्वागत किया। वहीं शहर में कमल माखीजानी का स्वागत करने वालों में बड़ी संख्या में सिंधिया समर्थक नेता पहुंचे। भाजपा नेताओं ने नये अध्यक्ष को फूल मालाओं से लाद दिया तो वहीं सिंधिया समर्थक पूर्व विधायक रमेश अग्रवाल, वरिष्ठ नेता सुरेंद्र शर्मा सरपंच, पूर्व पार्षद गुड्डू वारसी, नवीन परांडे सहित अन्य नेताओं ने कमल माखीजानी के घर पहुंचकर उन्हें शुभकामनाएं दी। पूर्व कांग्रेस विधायक रमेश अग्रवाल ने पार्टी के चयन का स्वागत करते हुए कहा कि युवा हाथों में कमान आने से संगठन मजबूत होगा।

सामंजस्य बैठाना होगा बड़ी चुनौती
भाजपा के दोनों अध्यक्षों के लिए संगठन में सामंजस्य बैठाना एक बड़ी चुनौती होगा। क्योंकि लंबी समय से बहुत से नेता दबी जुबान में नाराजगी जाहिर कर रहे हैं लेकिन अनुशासन में रहते हुए संगठन के बाहर इसकी खुलकर चर्चा नहीं करते। भाजपा वैसे ही बहुत बड़ा संगठन है और फिर पिछले दिनों ज्योतिरादित्य सिंधिया के साथ आये उनके बहुत से समर्थक जो अभी भाजपा के सदस्य नहीं हैं लेकिन उनके पार्टी में आने के बाद जिला अध्यक्षों पर उन्हें एडजस्ट करने का दबाव भी रहेगा ।

भाजपा समुद्र है इसमें मिलकर सभी नदियाँ समरूप हो जाती हैं
महानगर अध्यक्ष कमल माखीजानी से एमपी ब्रेकिंग न्यूज़ ने ने कई मुद्दों पर बात की । संगठन विस्तार को लेकर उनका कहना था कि संगठन मंत्री और प्रदेश नेतृत्व मुझे जैसे निर्देश देंगे उसका पालन होगा। उपचुनाव से पहले या बाद में विस्तार करना है ये वरिष्ठ नेतृत्व से मार्गदर्शन मिलने के बाद तय किया जायेगा। अपनी पार्टी के नेताओं के अलावा सिंधिया समर्थकों को भी संगठन में जगह देने और दोनों के बीच सामंजस्य बैठाने के सवाल पर महानगर अध्यक्ष ने कहा कि भाजपा एक समुद्र है यहाँ अलग अलग नदियाँ आती हैं और इसके रंग में मिल जाती हैं समरूप हो जाती हैं। तो जो लोग आये हैं उनको हम पार्टी की रीति नीति के हिसाब से बनाएंगे, सबको साथ लेकर चलेंगे और संगठन को मजबूत करेंगे।