हाई प्रोफाइल हत्यारोपी पर अब 30 हजार का इनाम, आईजी ने दिये सर्चिंग बढ़ाने के निर्देश

221

ग्वालियर ।अतुल सक्सेना| अतिरिक्त पुलिस महा निदेशक एवं पुलिस महा निरीक्षक ग्वालियर जोन राजाबाबू सिंह (Rajababu Singh) ने अशोकनगर जिले में हुई एक आदिवासी की हत्या के मुख्य आरोपी गिर्राज यादव पर इनाम की राशि 10,000 रुपये से बढ़ाकर 30,000 रुपये कर दी है। आरोपी ने अपने साथियों के साथ मिलकर आदिवासियों पर हमला कर दिया था जिसमें एक बुजुर्ग खुमान उर्फ खिलन आदिवासी की मौत हो गई थी। आरोपी गिर्राज हाई प्रोफाइल बताया जाता है। इसके कांग्रेसी नेताओं से नजदीकी संबंध बताये जाते हैं। एडीजीपी ने आरोपी की शीघ्र गिरफ्तारी के आदेश दिये हैं। इसके लिए ग्वालियर चंबल पुलिस (Gwalior Chambal POlice) के अलावा राजस्थान और उत्तर प्रदेश पुलिस (UP Police) को भी सूचना दी गई है।

अशोकनगर जिले के बहादुरपुर थाने के कोलुआ चक्क गांव में दो दिन पहले दो समुदायों के बीच हुई मारपीट और बलवे में हुई खुमान उर्फ खिलन आदिवासी की हत्या में शामिल जिन 6 आरोपियों पर एसपी रघुवंश सिंह भदौरिया ने इनाम घोषित किया था उनमें से मुख्य आरोपी गिर्राज यादव पर 10,000 रुपये एवं अन्य आरोपियों बलराम यादव, गुड्डा यादव, राजन यादव, करतार यादव और जीवन यादव पर पांच पांच हजार का इनाम घोषित किया था। एसपी की अनुशंसा पर आज अतिरिक्त पुलिस महानिदेशक एवं पुलिस महानिरीक्षक ग्वालियर जोन राजाबाबू सिंह ने मुख्य आरोपी गिर्राज यादव की गिरफ्तारी पर इनाम की बढ़ाकर 30,000 रुपये कर दी है। आईजी ने आरोपी की गिरफ्तारी के लिए ग्वालियर चंबल अंचल के सभी जिलों ग्वालियर, शिवपुरी, गुना, अशोकनगर, दतिया, मुरैना, भिंड और श्योपुर के अलावा उत्तर प्रदेश के आगरा, इटावा, झांसी सहित राजस्थान के भरतपुर, धौलपुर, सवाई माधौपुर, कोटा, करौली और बारा के पुलिस अधीक्षक को भी इसकी सूचना भेजी है। और आरोपी गिर्राज यादव जो गिरफ्तार करने के आदेश दिया हैं।

गौर तलब है कि दो दिन पहले अशोकनगर जिले के बहादुरपुर थाने के कोलुआ चक्क गांव में एक बबूल के पेड़ को काटने को लेकर आदिवासी एवं यादव समुदाय के लोगों के बीच जमकर विवाद हुआ था। विवाद मारपीट तक पहुँच गया था जिसमें लाठी एवं फरसे चले थे। इस बलबे में दोनों पक्षों के कई लोग घायल हुये थे।मारपीट में 60 वर्षीय खुमान उर्फ खिलन आदिवासी को सिर में गंभीर चोट थी, जिसे पहले बहादुरपुर अस्पताल से जिला चिकित्सालय रैफर किया था। यहां से उसे ग्वालियर रैफर कर दिया गया था। जहां उपचार के दौरान उसकी मौत हो गई। आदिवासी बुजुर्ग की मौत के बाद यह मामला बहुत तेजी से चर्चा में आया। स्थानीय मीडिया रिपोर्ट के अनुसार इस मामले में गिर्राज यादव नामक हाई प्रोफाइल युवक का नाम शामिल है। इसके बारे में बताया जा रहा है कि पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ एवं दिग्विजय सिंह से इसके सीधे संपर्क है। हालांकि इसकी किसी कांग्रेसी नेता ने अधिकृत पुष्टि नहीं की है। बताया जा रहा है कि घटना के कुछ दिन पहले तक यह भोपाल में सक्रिय था। पूर्व में भी प्रदेश की राजनैतिक उठापटक में गिर्राज यादव के नाम तब पहली बार आया था जब विधानसभा चुनाव में नारायण त्रिपाठी एवं शरद कोल भाजपा में होते हुए कांग्रेस का समर्थन कर रहे थे तब गिर्राज यादव इन दोनों के साथ तत्कालीन मुख्यमंत्री कमलनाथ के साथ देखा गया था। इस हाई प्रोफाइल नाम के आदिवासी की हत्या के मामले में आने के बाद जिले की पुलिस सक्रिय हो गई। कल दिन भर उसकी खोज में पुलिस ने काफी सर्चिंग की लेकिन कोई सफलता हाथ नहीं लगी। अब इस पर इनामी राशि बढ़ जाने के बाद पुलिस ने इसकी गिरफ्तारी के प्रयास तेज कर दिये हैं और अपने मुखबिर तंत्र को मजबूत कर दिया है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here