मनोरोगी है भोपाल एयरपोर्ट पर हंगामा करने वाला युवक

ग्वालियर।अतुल सक्सेना। राजधानी भोपाल के राजा भोज एयरपोर्ट पर खड़े हेलिकॉप्टर में तोड़फोड़ करने और एक विमान के सामने हवाई पट्टी पर लेटकर हंगामा करने वाला युवक योगेश मनोरोगी है। ये निष्कर्ष उसके लगातार दस दिन तक चली जांच के बाद निकला है। ग्वालियर मानसिक आरोग्यशाला के मनोरोग विशेषज्ञों ने योगेश की रिपोर्ट भोपाल भेज दी है।

राजा भोज एयरपोर्ट पर बीती 2 फरवरी को हंगामा करने वाला युवक योगेश त्रिपाठी मनोरोगी है। ग्वालियर मानसिक आरोग्यशाला के विशेषज्ञों ने लगातार 10 दिनों तक उसका परीक्षण किया और उसकी हर गतिविधि पर नजर रखी। शुरुआत में योगेश डॉक्टरों कि बात पर कोई रिस्पोंस नहीं दे रहा था और गुमसुम रहता था। लेकिन धीरे धीरे वो इलाज में सहयोग करने लगा। चिकित्सकों द्वारा उसका परीक्षण करने के बाद निष्कर्ष दिया है कि योगेश मनोरोगी है। चिकित्सकों ने उसकी रिपोर्ट बनाकर भोपाल भेज दी है। जिसे भेजने में पूरी गोपनीयता बरती गई है। हालांकि योगेश का इलाज करने वाले मनोरोग विशेषज्ञ डॉ कुलदीप सिंह ने सुप्रीम कोर्ट की गाइड लाइन का हवाला देते हुए कहा कि कोर्ट का आदेश है कि मनोरोगी के विषय में सार्वजनिक तौर पर कुछ भी नहीं बताया जाए। अब योगेश को केंद्रीय जेल वापस भेजा जाना है और गार्ड उपलब्ध होते ही उसे ग्वालियर सेंट्रल जेल से भोपाल भेज दिया जायेगा। योगेश ग्वालियर सेंट्रल जेल के मनोरोगी वार्ड में 6 फरवरी से भर्ती था।

गौरतलब है कि 2 फरवरी को राजा भोज एयरपोर्ट पर उस समय हड़कंप मच गया था जब एक युवक ने वहां खड़े निजी अगस्ता हेलिकॉप्टर की तोड़फोड़ कर दी। उसके बाद युवक हवाई पट्टी पर यात्रियों के साथ उड़ान भरने वाले एक विमान के सामने लेट गया। वो तो पायलट ने सूझबूझ का परिचय देकर विमान का इंजन बन्द कर दिया जिससे बड़ा हादसा टल गया था। घटना के बाद CISF ने युवक को गिरफ्तार कर लिया। उसने अपना नाम योगेश त्रिपाठी बताया। युवक की हालत को देखते हुए पुलिस ने उस हमीदिया अस्पताल में भर्ती कराया। प्रारंभिक जांच में डॉक्टरों ने उसे मानसिक रोगी बताया और ग्वालियर मानसिक आरोग्यशाला रेफर कर दिया। 6 फरवरी से योगेश ग्वालियर सेंट्रल जेल के मनोरोगी वार्ड में भर्ती था और ग्वालियर मानसिक आरोग्यशाला के चिकित्सक उसका इलाज कर रहे थे।