गिरफ्तारी पर भड़की कांग्रेस, बोली ये सरकार की तानाशाही, इसका जवाब जल्दी मिलेगा

ग्वालियर, अतुल सक्सेना

भारतीय जनता पार्टी के सदस्यता ग्रहण समारोह का विरोध करने सड़कों पर उतरी कांग्रेस को धरना स्थल पर पहुँचने से पहले ही प्रशासन ने गिरफ्तार कर लिया। कांग्रेस ने इसे लोकतंत्र की हत्या और सरकार की तानाशाही बताया है। गिरफ्तारी से आक्रोशित कांग्रेस ने कहा कि जनता जल्दी ही इसका जवाब देगी।

22, 23 और 24 अगस्त को ग्वालियर में होने जा रहे भाजपा के सदस्यता ग्रहण समारोह का कांग्रेस ने विरोध का ऐलान किया है। कांग्रेस का तर्क है कि जब कोरोना में भीड़ प्रतिबंधित है, सभी तरह के आयोजनों पर रोक है तो ये राजनैतिक कार्यक्रम कैसे हो रहा है। भाजपा के सदस्यता ग्रहण समारोह का विरोध करने के लिए कांग्रेस ने तीनों दिन धरने की घोषणा की थी। आज पहले दिन 22 अगस्त को सुबह कांग्रेस के नेता सोकर उठ पाते उससे पहले ही कुछ नेताओं के घर पुलिस पहुँच गई और गिरफ्तार कर लिया, कुछ को घर में नजरबंद कर दिया तो कुछ नेताओं को सड़क पर गिरफ्तार कर लिया। कांग्रेस के नेता कार्यक्रम स्थल तक पहुँच पाते उससे पहले ही वे जहाँ से निकले वहीं गिरफ्तार कर लिए गए। पुलिस ने कांग्रेस कार्यालय के पास बैरिकेट लगा दिया और कांग्रेस नेताओं को आगे बढने से रोक दिया और भारी पुलिस बल की मौजूदगी में गिरफ्तार कर लिया। नेताओं को गिरफ्तार करने के बाद अलग अलग जगह भिजवाया गया। कुछ को अलग अलग थानो में तो कुछ को सेंट्रल जेल में।

गिरफ्तारी के बाद कांग्रेस नेताओं ने इसे सरकार की तानाशाही और बर्बरता बताया। शहर जिला अध्यक्ष डॉ देवेद्र शर्मा ने एमपी ब्रेकिंग न्यूज़ से बात करते हुए कहा कि ये सरकार और प्रशासन की तानाशाही है और पक्षपात पूर्ण कार्र वाई है एक तरफ इतने बड़े कार्यक्रम की अनुमति दी जाती है और दूसरी तरफ गांधी जी की प्रतिमा के नीचे धरने पर एतराज होता हैं उन्होंने कहा कि हम डरने वाले नहीं है, का यानि 23 अगस्त को युवक कांग्रेस का धरना यथावत रहेगा और परसों सेवादल धरना देगा। जिला प्रवक्ता आनंद शर्मा ने एमपी ब्रेकिंग न्यूज़ से कहा कि सत्ता के दम पर पुलिस का सहारा लेकर भाजपा अपने ही द्वारा बनाये गए नियमों का उल्लंघन कर रही है जिसका कांग्रेस ने आज लोकतांत्रिक तरीके से महात्मा गांधी जी के चरणों मे धरना देने का प्रोग्राम बनाया था किंतु भाजपा ने अलोकतांत्रिक तरीके से कांग्रेसजनों को गिरफ्तार किया। कांग्रेस कार्य कर्ताओं की संख्या इतनी ज्यादा थी कि गिरफ्तारी में बसें भी कम पड़ गई। उन्होंने कहा कि कांग्रेस पार्टी सदैव आम जनता के हितों की रक्षा करने के लिए संघर्ष करती रहेगी। जिला कांग्रेस के एक अन्य प्रवक्ता धर्मेंद्र शर्मा ने एमपी ब्रेकिंग न्यूज़ से बात करते हुए कहा कि आज ग्वालियर चंबल संभाग के कांग्रेस कार्यकर्ताओं ने इन ग़द्दार, बिकाऊ, जयचंदों को उनकी औकात दिखा दी जो लोग कहते थे कहां है कांग्रेस, उन्हें बता दो आ जाओ मैदान में, हर जगह है कांग्रेस , “हर गली हर शहर में बस अब एक ही नारा है ,इन बिकाऊ जयचंदों से पाना छुटकारा है”। धर्मेंद्र शर्मा ने कहा कि चंबल की माटी और चंबल के पानी में गद्दारी नहीं खुद्दारी है, इन गद्दार ,बिकाऊ जयचंदों को आने वाले उपचुनावों में जनता चुनाव हराकर इनकी औकात अवश्य दिखाएगी।

युवा कांग्रेस के राष्ट्रीय सचिव मितेंद्र दर्शन सिंह ने एमपी ब्रेकिंग न्यूज़ से कहा कि कोरोना कि इस महामारी में भाजपा के दिलो-दिमाग में सत्ता का सुख किस तरह हावी है कि वह ग्वालियर चंबल संभाग की जनता को कोरोना के मुंह में डालने के लिए हजारों लोगों को ग्वालियर चंबल संभाग के कोने-कोने से लाकर कोरोना विस्फोट करने जा रही है। कांग्रेस के साथ यूथ कांग्रेस भी कमलनाथ जी के निर्देश पर शांतिपूर्ण तरीके से सोशल डिस्टेंसिंग के साथ गांधी प्रतिमा के सामने धरना देने के लिए जा रहे थे तो तानाशाही पुलिस प्रशासन ने सैकड़ों साथियों को रास्ते में गिरफ्तार कर गोले के मंदिर थाना, मुरार , पड़ाव एवं महाराजपुरा थाने में ले जाकर रखा गया जो उनकी तानाशाही बताता है। वहीं युवा कांग्रेस के एक अन्य राष्ट्रीय सचिव संजय सिंह यादव ने एमपी ब्रेकिंग न्यूज़ से कहा कि आज की गिरफ्तारी शिवराज सिंह चौहान और कांग्रेस से गद्दारी करने वाले ज्योतिरादित्य सिंधिया की बौखलाहट दिखाती है। उन्होंने कांग्रेस और जनता पर जो बर्बरतापूर्वक कार्र वाई करवाई है उसका जवाब उन्हें चुनाव में मिलेगा। संजय यादव ने कहा कि आज सड़क पर कांग्रेस अकेली नहीं थी बल्कि उसके साथ जनता थी। जिसका गुस्सा सड़क पर फूट रहा था।