डबरा, सलिल श्रीवास्तव। डबरा के गंगा वेयर हाउस पर किसान राजनीति का शिकार हो रहे हैं। नियमों में कुछ बदलाव होने के कारण एफसीआई (FCI) के द्वारा नियमानुसार गेहूं खरीदी की जा रही है, जिसका लगातार डबरा क्षेत्र के खरीदी केंद्रों पर विरोध देखने को मिला है। जिसे लेकर के गंगा वेयरहाउस पर लगातार तीन दिन डबरा के कांग्रेसी विधायक सुरेश राजे (Congress MLA Suresh Raje) पहुंचे और उनके साथ खाद्य विभाग अधिकारी और डबरा एसडीएम प्रदीप शर्मा भी उपस्थित रहे। लेकिन इसके बावजूद भी समस्या का हल नहीं निकला। शुक्रवार को विधायक सुरेश राजे पहुंचे और पूर्व मंत्री इमरती देवी (Former Minister Imarti Devi) भी वहां पहुंच गई। दोनों ही नेताओं ने अधिकारियों से बात की और केंद्रों पर खड़ी गेहूं से भरी ट्रॉलीयों को तुलवाने की बात कही। जिसका किसानों को फायदा होगा, और उम्मीद है कि उनकी समस्या हल हो जाएगी।

यह भी पढ़ें:-पुलिस की गिरफ्त में NSUI कार्यकर्ता, मंत्री ओ.पी. भदौरिया को देने की फिराक में थे एक करोड़ का नकली चेक

दरअसल एफसीआई के द्वारा नियमानुसार गेहूं खरीदी की जा रही है, जिसके चलते किसानों का गेहूं रिजेक्ट किया जा रहा है। जिसको लेकर डबरा विधायक एक दिन धरने पर भी बैठ गए। उन्हें वरिष्ठ अधिकारियों द्वारा आश्वासन दिया गया कि किसानों का पूरा अनाज खरीदा जाएगा लेकिन शुक्रवार को फिर सर्वेयर ने एफसीआई के नियमों के तहत कुछ किसानों की गेहूं को रिजेक्ट कर दिया। जिसे लेकर के किसानों में फिर आक्रोश दिखा और सूचना मिलते ही डबरा विधायक सुरेश राजे मौके पर पहुंचे और वहीं मौके पर पहुंची पूर्व मंत्री इमरती देवी भी पहुंच गई।

यह भी पढ़ें:-कांग्रेस ने E-Pass सिस्टम को बताया तुगलकी फरमान, पूर्व मुख्यमंत्री को लिखा शिकायती पत्र

पूर्व मंत्री इमरती देवी ने कहा कि 15 साल तक डबरा के किसान परेशान नहीं हुए। मैं दूसरों की बात नहीं कह सकती, लेकिन जो डबरा की जनता ने मुझे नाम दिया है मैं उसे भूल नहीं सकती चाहे मैं हारती रहूं या जीतती रहूं। लेकिन मैं डबरा की जनता के हमेशा सुख-दुख में साथ देने के लिए तैयार हूं। वहीं डबरा विधायक सुरेश राजे ने भाजपा पर निशाना साधते हुए कहा कि कोई भी सत्ताधारी व्यक्ति यहां आए तो कोई बात नहीं और यदि वह श्रेय लेना चाहते हैं तो अपना होर्डिंग यहां पर लगवा दे और लिखवा दें हमारे कहने पर किसान का गेहूं खरीदा गया। मुझे कोई एतराज नहीं बल्कि मैं खुद उसका स्वागत करूंगा, रही बात पूर्व मंत्री की तो चार-पांच महीने बीत जाने के बाद चलो इस बहाने उन्हें बाहर निकलने का और काम करने का मौका तो मिला।