सियासी अखाड़ा बनी गांधी जयंती: भाजपा सांसद का विरोध, कांग्रेस की जमकर नारेबाजी

भाजपा सांसद ने कहा कि भाजपा और उसके कार्यकर्ताओं को किसी के सर्टिफिकेट की जरूरत नहीं है।

ग्वालियर, अतुल सक्सेना। महात्मा गांधी (Mahatma Gandhi) को भारत के लोग राष्ट्रपिता (Father Of Nation)  मानते हैं और कहते भी हैं लेकिन भाजपा-कांग्रेस (BJP -Congress) के लिए वे एक सियासी मुद्दा भर बनकर रह गए हैं। ये हम इसलिए कह रहे हैं कि क्योंकि गांधी जयंती पर जब पूरा देश बापू को याद कर उन्हें नमन कर रहा है वहीं ग्वालियर में भाजपा सांसद और जिला अध्यक्ष को देखकर कांग्रेस भड़क गई और प्रतिमा के नीचे ही जमकर नारेबाजी करने लगी। भाजपा सांसद इसे कांग्रेस को ओछी हरकत बताते हुए आगे बढ़ गए।

सियासी अखाड़ा बनी गांधी जयंती: भाजपा सांसद का विरोध, कांग्रेस की जमकर नारेबाजी सियासी अखाड़ा बनी गांधी जयंती: भाजपा सांसद का विरोध, कांग्रेस की जमकर नारेबाजी

देश और दुनिया के लोग आज महात्मा गांधी की जयंती पर उन्हें याद कर रहे हैं और उनके चित्र और मूर्ति पर पुष्पांजलि कर रहे हैं लेकिन ग्वालियर के फूलबाग मैदान में लगी बापू की प्रतिमा कांग्रेस और भाजपा के बीच सियासी अखाडा बन गई। गांधी जयंती के मौके पर दोनों ही पार्टी के नेता और कार्यकर्ता गांधी जी की प्रतिमा पर पुष्पांजलि  के लिए गए थे  लेकिन भाजपा सांसद, जिला अध्यक्ष और अन्य भाजपा कार्यकर्ताओं को देखकर युवा कांग्रेस और सेवादल के कार्यकर्ता भड़क गए और “बापू हम शर्मिंदा हैं तेरे कातिल जिन्दा हैं” के नारे लगाने लगे।

ये भी पढ़ें – Good News: SBI का ग्राहकों को तोहफा- फ्री में पाएं 2 लाख का इंश्योरेंस, ये है पूरी प्रक्रिया

दरअसल राष्ट्रपिता महात्मा गांधी की जयंती के मौके पर फूलबाग स्थित गांधी उद्यान पर बापू की प्रतिमा पर कांग्रेस कार्यकर्ता माल्यार्पण करने पहुंचे थे  जब युवा कांग्रेस और सेवादल के कार्यकर्ता वहां मौजूद थे इसी दौरान ग्वालियर के भाजपा सांसद विवेक नारायण शेजवलकर, जिला अध्यक्ष कमल माखीजानी भी कुछ अन्य कार्यकर्ताओं के साथ गांधी जी की प्रतिमा पर माल्यार्पण करने पहुंचे।

ये भी पढ़ें – गाड़ी रोकने पर भड़के भाजपा कार्यकर्ता, ट्रैफिक पुलिस पर लगाए अभद्रता करने के आरोप

भाजपा सांसद और जिला अध्यक्ष को देखकर कांग्रेस नेताओं ने नारेबाजी शुरू कर दी। कांग्रेस नेताओं ने विरोध जताते हुए भाजपा नेताओं पर राष्ट्रपिता के हत्यारे नाथूराम गोडसे का उपासक होने और उन पर सोशल मीडिया के माध्यम से भी बुरा भला कहे जाने के आरोप लगाए। कांग्रेस का कहना था कि भाजपा या तो हत्यारे की विचारधारा को चुने या फिर राष्ट्रपिता महात्मा गांधी की विचारधारा को चुने।

ये भी पढ़ें – Gold Silver Rate : चांदी की कीमत में बड़ी तेजी, सोना पुराने रेट पर, जानें ताजा भाव

कांग्रेस कार्यकर्ताओं के अचानक हुए इस तरह के विरोध और नारेबाजी को भाजपा सांसद विवेक नारायण शेजवलकर ने उनकी ओछी हरकत बताया।  भाजपा सांसद ने कहा कि भाजपा और उसके कार्यकर्ताओं को किसी के सर्टिफिकेट की जरूरत नहीं है। राष्ट्रपिता महात्मा गांधी ने रामराज और सुशासन की जो कल्पना की थी, सही मायने में उनके सपने को गढ़ने का काम भाजपा ने किया है।