ग्वालियर-चम्बल बाढ़ : राहत बचाव के लिए जुटे ज्योतिरादित्य सिंधिया, कहा- “जनसेवा के लिए प्रतिबद्ध”

scindia
scindia

ग्वालियर, अतुल सक्सेना। ग्वालियर-चम्बल अंचल के शिवपुरी-ग्वालियर, दतिया, श्योपुर में बाढ़ एवं अतिवृष्टि के रूप में आई प्राकृतिक आपदा से पीड़ित लोगों के राहत एवं बचाव के कार्य मे प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान के साथ मिलकर केन्दीय नागरिक उड्डयन मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया भी लगातार प्रयासरत हैं। दोनों वरिष्ठ नेताओं ने भारत सरकार के रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह एवं सेना अध्य्क्ष से बात करके सेना के हेलीकाप्टर एवं सेना के जवानों का दल, मोटर बोट एव नाव आदि का प्रबंध किया है। पिछले दो दिन से सेना के हेलीकॉप्टर से सैकड़ों लोगों को एयरलिफ्ट करके सुरक्षित स्थान पर पहुंचाया गया है, इसके साथ ही सेना के जवानों ने मोटर बोट के माध्यम से भी हज़ारों उन लोगों को सुरक्षित जगहों पर पहुँचाया है जिनका संपर्क जलभराव के कारण टूट गया था।

ग्वालियर जिला प्रशासन ने की भोजन और रहने की व्यवस्था, समाजसेवी भी आगे आये

इस आपदा के समय ज्योतिरादित्य सिंधिया ने कहा कि ये समय हमारे लिए चुनौतीपूर्ण है। कई जगह पर रेल मार्ग एवं सड़क मार्ग भी बाधित हुए हैं, जिसके कारण राहत एवं बचाव कार्य में परेशानी का सामना करना पड़ रहा है, लेकिन एनडीआरफ, एसडीआरफ, सेना एवं पुलिस एवं प्रशासन के लोग अपनी जान की परवाह किए बिना लोगों की सेवा कर रहे हैं, उन्हें सुरक्षित स्थान पर पहुंचा रहे हैं। राज्य सरकार एवं ज़िला प्रशासन भी एक-एक नागरिक की जान-माल की सुरक्षा करने के लिए प्रतिबद्ध है। उन्होने कहा कि भाजपा का एक-एक कार्यकर्ता संकट के समय खड़ा है, हमारे कार्यकर्ता एवं पदाधिकारी अपनी जान को संकट में डालकर लोगों तक राहत सामग्री पहुंचाने का कार्य कर रहे हैं। सिंधिया ने कहा कि हम हमारे रक्षा मंत्री, सेना के वीर जवानों के प्रति आभारी हैं जिन्होंने संकट के समय लोगों के जीवन को बचाया है, हमे आप पर गर्व है।

उन्होने कहा कि केंद्र एवं राज्य की संवेदनशील सरकार पूरी तरह से सतर्क है। संबंधित जिलों के प्रभारी मंत्री भी बाढ़ प्रभावित क्षेत्रों में जाकर बाढ़ प्रभावित इलाक़ों का दौरा करके राहत एवं बचाव का सतत मूल्यांकन कर रहे हैं। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने भी हवाई सर्वे किया है। उन्होने कहा कि मैं लगातार सभी के संपर्क में हूँ, हम सभी इस इस संकट की घड़ी में कटिबद्ध होकर जनसेवा के लिए प्रतिबद्ध हैं।