Gwalior News : मंदिर के पास खेल रहे थे जुआ, पांच गिरफ्तार, करीब सवा लाख रुपये जब्त

Atul Saxena
Published on -

Gwalior News : ग्वालियर पुलिस की क्राइम ब्रांच ने जुआ खेलने वालों के खिलाफ बड़ी कार्रवाई की है। क्राइम ब्रांच ने शिन्दे की छावनी स्थित युगांतर होटल वाली गली में मंदिर के पास फड़ लगाकर जुआ खेल रहे 05 जुआरियों को पकड़ा है,  पकड़े गए जुआरियों के पास से 01 लाख 23 हजार 200 रुपये नगद व 02 ताश की गड्डियां जब्त हुई है।

MP Assembly Election 2023 के चलते ज्यादा एक्टिव है Gwalior पुलिस 

मप्र विधानसभा चुनाव को ध्यान में रखते हुए ग्वालियर पुलिस अधीक्षक राजेश चंदेल के निर्देश पर ग्वालियर पुलिस जुआ, सट्टा, अवैध शराब व मादक पदार्थों की खरीद-बिक्री करने वालों के विरुद्ध अभियान चलाकर लगातार कार्यवाही कर रही है। इसी क्रम में आज एसपी को मुखबिर से सूचना प्राप्त हुई कि थाना इंदरगंज क्षेत्र में शिंदे की छावनी स्थित युगांतर होटल वाली गली मंदिर के पास में कुछ लोग जुआ खेल रहे है। उक्त सूचना पर एसपी  ने डीएसपी क्राइम षियाज़ के एम (IPS) को थाना क्राइम ब्रांच की टीम बनाकर तस्दीक कर कार्यवाही करने के निर्देश दिए।

क्राइम ब्रांच ने टी आई के नेतृत्व में मारा छापा 

एसपी के निर्देश पर डीएसपी क्राइम  षियाज़ केएम ने क्राइम ब्रांच टी आई अमर सिंह सिकरवार को क्राइम टीम के साथ  मुखबिर के बताये स्थान शिन्दे की छावनी स्थित युगांतर होटल वाली गली मंदिर के पास हेतु भेजा। पुलिस टीम ने होटल वाली गली मंदिर के पास में देखा तो कुछ लोग जुआ खेलते हुये दिखाई दिए।

पुलिस को देखते ही मच गई जुआरियों में भगदड़, पांच गिरफ्तार 

पुलिस टीम को देखते ही जुआरियों में भगदड़ मच गई वो यहाँ वहां भागने लगे लेकिन मुस्तैद पुलिस टीम ने जुआ खेल रहे 05 लोगों को घेरकर पकड़ लिया। मौके पर पुलिस टीम को कुल 1,23,200/- रुपए नगद व दो ताश की गड्डी मिली जिसे पुलिस ने जब्त कर लिया। पकड़े गये सभी जुआरियों के खिलाफ थाना क्राइम ब्रांच में धारा 13 जुआ एक्ट का प्रकरण पंजीबद्ध किया गया है।

Gwalior News : मंदिर के पास खेल रहे थे जुआ, पांच गिरफ्तार, करीब सवा लाख रुपये जब्त

ग्वालियर से अतुल सक्सेना की रिपोर्ट 


About Author
Atul Saxena

Atul Saxena

पत्रकारिता मेरे लिए एक मिशन है, हालाँकि आज की पत्रकारिता ना ब्रह्माण्ड के पहले पत्रकार देवर्षि नारद वाली है और ना ही गणेश शंकर विद्यार्थी वाली, फिर भी मेरा ऐसा मानना है कि यदि खबर को सिर्फ खबर ही रहने दिया जाये तो ये ही सही अर्थों में पत्रकारिता है और मैं इसी मिशन पर पिछले तीन दशकों से ज्यादा समय से लगा हुआ हूँ.... पत्रकारिता के इस भौतिकवादी युग में मेरे जीवन में कई उतार चढ़ाव आये, बहुत सी चुनौतियों का सामना करना पड़ा लेकिन इसके बाद भी ना मैं डरा और ना ही अपने रास्ते से हटा ....पत्रकारिता मेरे जीवन का वो हिस्सा है जिसमें सच्ची और सही ख़बरें मेरी पहचान हैं ....

Other Latest News