Lok Sabha Election 2024: बुजुर्ग और दिव्यांग मतदाता के घर पहुंचे मतदान दल, उम्र और तकलीफ की परवाह किये बिना मतदाताओं ने डाले वोट

संयुक्त कलेक्टर एवं डाक मत पत्र प्रभारी अशोक चौहान ने बताया कि ग्वालियर जिले में 85 वर्ष से अधिक आयु के बुजुर्ग एवं 40 प्रतिशत से अधिक दिव्यांगता वाले कुल 2310 मतदाताओं ने फॉर्म-12डी भरकर घर पर ही वोट डालने के लिये सहमति दी है।

Atul Saxena
Published on -
Gwalior Polling

Lok Sabha Election 2024:  लोकतंत्र के महापर्व चुनाव का दूसरा चरण आज संपन्न हो गया, मतदाता जहाँ पोलिंग बूथ पर जाकर मतदान कर रहे हैं लेकिन जो अशक्त हैं, बुजुर्ग हैं या दिव्यांग हैं और मतदान करना चाहते हैं उनके लिए मतदान दल घर पहुंच रहे हैं और उनसे मतदान करवा रहे हैं, ग्वालियर में ये प्रक्रिया आज और कल यानि 26 और 27 अप्रैल को संपन्न होगी।

शुक्रवार को कलेक्ट्रेट से मतदान सामग्री प्रदान कर मतदान दलों को विशेष वाहनों द्वारा घर-घर वोट डलवाने के लिए रवाना किया गया। कलेक्टर एवं जिला निर्वाचन अधिकारी श्रीमती रुचिका चौहान ने हरी झण्डी दिखाकर मतदान दल रवाना किए। इस अवसर पर अपर कलेक्टर एवं नोडल अधिकारी प्रशिक्षण श्रीमती अंजू अरूण कुमार, उप जिला निर्वाचन अधिकारी संजीव जैन, एआरओ अतुल सिंह एवं डाक मत पत्र प्रभारी व एसडीएम मुरार अशोक चौहान सहित अन्य संबंधित अधिकारी मौजूद थे। आपको बता दें कि बुजुर्गों व दिव्यांगों से घर-घर जाकर वोट डलवाने के लिये जिले के सभी विधानसभा निर्वाचन क्षेत्रों में कुल 120 रूट निर्धारित किए गए हैं। इसकी जानकारी सभी प्रत्याशियों को दी गई है। घर-घर वोट डलवाने के लिए 26 अप्रैल से शुरू हुआ प्रथम चरण 27 अप्रैल को भी जारी रहेगा। यदि कोई बुजुर्ग व दिव्यांग मतदाता घर पर नहीं मिलता है तो द्वितीय चरण में 28 अप्रैल को मतदान दल उनके घर पर वोट डलवाने पहुँचेंगे।

Continue Reading

About Author
Atul Saxena

Atul Saxena

पत्रकारिता मेरे लिए एक मिशन है, हालाँकि आज की पत्रकारिता ना ब्रह्माण्ड के पहले पत्रकार देवर्षि नारद वाली है और ना ही गणेश शंकर विद्यार्थी वाली, फिर भी मेरा ऐसा मानना है कि यदि खबर को सिर्फ खबर ही रहने दिया जाये तो ये ही सही अर्थों में पत्रकारिता है और मैं इसी मिशन पर पिछले तीन दशकों से ज्यादा समय से लगा हुआ हूँ.... पत्रकारिता के इस भौतिकवादी युग में मेरे जीवन में कई उतार चढ़ाव आये, बहुत सी चुनौतियों का सामना करना पड़ा लेकिन इसके बाद भी ना मैं डरा और ना ही अपने रास्ते से हटा ....पत्रकारिता मेरे जीवन का वो हिस्सा है जिसमें सच्ची और सही ख़बरें मेरी पहचान हैं ....