ग्वालियर।अतुल सक्सेना।

पिछले दिनों भाजपा के चार पूर्व मंत्रियों (Former ministers) से ग्वालियर (Gwalior) में मुलाकात कर चुके प्रदेश सरकार के गृह और स्वास्थ्य मंत्री डॉ नरोत्तम मिश्रा (Home and Health Minister Dr. Narottam Mishra) आज रात फिर ग्वालियर पहुंचेंगे, इस बार वे सिंधिया समर्थक (Scindia supporter) दो पूर्व मंत्रियों और एक पूर्व विधायक से मुलाकात करेंगे। समझा जा रहा है कि इस मुलाकात के बाद बहुत सी भ्रांतियों पर विराम लग जायेगा।

उपचुनाव (by election) की तैयारी में जुटी भाजपा (BJP) ने इस बार अपनी रणनीति में बदलाव किया है। ज्योतिरादित्य सिंधिया (Jyotiraditya Scindia) के के साथ कांग्रेस(Congress) छोड़कर आये 22 विधायकों के शामिल होने के बाद सरकार में लौटी भाजपा किसी भी तरह का रिस्क नहीं लेना नहीं चाहती। इसीलिए उसने उन जिलों में निगाह जमा ली है जहाँ सिंधिया समर्थक विधायक इस बार पार्टी के उम्मीदवार होंगे भाजपा को डर है कि कहीं उसका कार्यकर्ता या स्थानीय बड़े नेता रूठ गए तो सत्ता सुख ना चला जाए।

खास बात ये है जिन 24 सीटों पर न चुनाव होना है उसमें से 16 सीटें ग्वालियर चंबल संभाग (Gwalior Chambal Division) से आती है। चूंकि ग्वालियर चंबल अंचल में जितना प्रभाव भाजपा का है उतना ही ज्योतिरादित्य सिंधिया का भी है। इसलिए इस क्षेत्र में भाजपा के पुराने कार्यकर्ताओं और नेताओं में बेचैनी है जिसे दूर करने की जिम्मेदारी संकटमोचक डॉ नरोत्तम मिश्रा को संगठन ने सौंपी है। बीती 8 जून को ग्वालियर आकर डॉ नरोत्तम मिश्रा पूर्व मंत्री अनूप मिश्रा, पूर्व मंत्री नारायण सिंह कुशवाह, पूर्व मंत्री माया सिंह , पूर्व मंत्री जयभान सिंह पवैया और सांसद विवेक नारायण शेजवलकर से मुलाकात कर चुके हैं। इन मुलाकातों के पहले लगातार खबरें आ रही थी कि सिंधिया समर्थकों के भाजपा में शामिल होने के बाद और बड़े नेता रूठ गए हैं। लेकिन सभी से आधे आधे घंटे की एकांत मुलाकातों में संकटमोचक डॉ मिश्रा ने पार्टी का संदेश पूर्व मंत्रियों को दिया। मुलाकात के बाद सभी के सुर बदल गए और सभी नेताओं ने किसी भी तरह के असंतोष से इंकार कर दिया। हालांकि उस समय डॉ मिश्रा सिंधिया समर्थकों से नहीं मिले थे। जिसके बाद चर्चाओं का बाजार गर्म हो गया था जिसपर आज रात विराम लग जायेगा।

2 पूर्व मंत्रियों और 1 पूर्व विधायक से होगी मुलाकात

उप चुनाव में ग्वालियर चंबल संभाग कितना महत्वपूर्ण है इसका अंदाजा इसी बात से लगाया जा सकता है कि सात दिन में दूसरी बार प्रदेश सरकार के मंत्री डॉ नरोत्तम मिश्रा दो दिवसीय दौरे पर हैं। स्वास्थ्य एवं गृह मंत्री डॉ मिश्रा का 13 और 14 दो दिवसीय दौरा इस समय जारी है। उन्होंने का डबरा और दतिया के स्थानीय कार्यक्रमों में हिस्सा लिया। आज भी वे दिनभर डबरा और दतिया के स्थानीय कार्यक्रमों में शामिल होंगे और रात 8 बजे ग्वालियर पहुंचेंगे यहाँ वे सबसे पहले पूर्व मंत्री एवं सिंधिया समर्थक नेता प्रद्युम्न सिंह तोमर (Former minister and pro-Scindia leader Pradyuman Singh Tomar) से मुलाकात करेंगे। यहाँ आधा घंटा रुकने के बाद वे एक और सिंधिया समर्थक नेत्री और पूर्व मंत्री इमरती देवी (Scindia pro-leader and former minister Imrati Devi) के घर करीब 8:30 पर पहुंचेंगे। यहाँ आधा घंटा रुकने के बाद वे सीधे सिंधिया समर्थक पूर्व विधायक मुन्नालाल गोयल से उनके निवास पर मुलाकात करेंगे। इन मुलाकातों का ये मतलब लगाया जा रहा है कि पार्टी नहीं चाहती कि सिंधिया समर्थक और भाजपा नेताओं के बीच किसी भी तरह की कोई भ्रांति रहे। बहरहाल अब देखना ये होगा कि इस मुलाकात के बाद ग्वालियर चंबल अंचल की चुनावी रंगत कैसे बदलती है।