एक ही गांव के 50 से अधिक लोग कोरोना पॉजिटिव, प्रशासन ने कैम्प लगाकर की थी सैंपलिंग

डबरा नगर में चिनोर के ईटमा ग्राम के 50 से अधिक लोग कोरोना पॉजिटिव पाए गए हैं। दरअसल गांव में एक व्यक्ति की मौत के बाद प्रशासन ने कैम्प लगाकर सैंपलिंग कराई थी।

डबरा, सलिल श्रीवास्तव। डबरा नगर के ईटमा ग्राम में सोमवार रात एक व्यक्ति की कोरोना (Covid-19) से मौत के बाद प्रशासन एक्शन मोड में आ गया है। जहां कैम्प लगाकर ग्राम में बढ़ रहे पॉजिटिव मरीजों के आंकड़ो का पता लगाया गया, जिसमें 50 से ज्यादा ग्रामीण पॉजिटिव पाए गए हैं। गांव के बल्ली उर्फ जितेंद्र रावत की कोरोना से मौत के बाद प्रशासन ने पड़ताल की तो पता चला की रावत को पहले ग्वालियर इलाज के लिए भेजा था लेकिन वह वापिस आ गए थे। इसके बाद उनकी मौत हो गई।

यह भी पढ़ें:-कोरोना संक्रमित छतरपुर के जज ने खंडवा में तोड़ा दम, 2 दिन से हुए थे आईसीयू में भर्ती

जानकारी के मुताबिक मृतक जितेंद्र रावत दोबारा ग्वालियर भर्ती होने जाने लगे तो मामले की गंभीरता को देखते हुए जिलाधीश कौशलेंद्र विक्रम सिंह ने तत्काल निर्णय लेते हुए तहसील चीनोर के ईटमा ग्राम की सीमाबन्दी और अन्य व्यवस्था के लिए भितरवार के तहसीलदार श्यामू श्रीवास्तव को भेजा गया और रात में ही सीमाबन्दी की गई। भितरवार से गये तहसीलदार के साथ मौके पर पंचायत, राजस्व, स्वास्थ्य विभाग के अमले ने रात में ही रणनीति पर काम शुरू कर दिया। रात 1 बजे करीब मृतक का दाह संस्कार करा कर प्रशासन रात 3 बजे वापिस लौटा।

यह भी पढ़ें:-कोरोना काल : 17 वर्षीय बेटी ने दी पिता को मुखाग्नि, निगमकर्मी भी हो गए भावुक

तहसीलदार श्यामू श्रीवास्तव ने ईटमा ग्राम के लोगों से बातचीत के बाद प्रत्येक संदिग्ध व्यक्ति का सैंपल कराने का निर्णय लिया गया। तहसीलदार ने बीएमओ के साथ स्वास्थ्य कैम्प को मौके पर ही स्थापित कर 300 के करीब सैंपलिंग कराई। रिपोर्ट में 50 के करीब लोग पॉजिटिव मिले। जिसके बाद सभी का ईलाज शुरू किया गया है। दो दिन से तहसीलदार के साथ मौजूद रहे ईटमा हल्का पटवारी लखनलाल सोनी की भी मौके पर जांच कराई गई, जिसमे वह भी पॉजिटिव पाए गए। बाद तहसीलदार ने स्वयं को आईसोलेट कर लिया है। वहीं गांव की स्थिति नियंत्रण में है यदि समय रहते ग्रामीणों की जांच नहीं कराई जाती तो हालात गम्भीर हो सकते थे।