उपचुनाव: कुछ अलग अंदाज में नजर आये नरोत्तम, ग्वालियर-चंबल को लेकर कही ये बात

ग्वालियर।अतुल सक्सेना।

24 विधानसभा सीटों पर होने वाले उपचुनावों में महत्वपूर्ण भूमिका निभाने वाले ग्वालियर चंबल सभाग पर सबकी निगाहें हैं। सिंधिया समर्थकों और और अपनी पार्टी के वरिष्ठ नेताओं के असंतुष्ट होने की खबरों के बीच सात दिन में दो बार ग्वालियर का दौरा कर चुके गृह एवं स्वास्थ्य मंत्री डॉ नरोत्तम मिश्रा इस बार बहुत कॉन्फिडेंट नजर आये। उन्होंने सिंधिया समर्थकों से मुलाकात के बाद ना सिर्फ अंचल की सभी सीटें आसानी से जीतने का दावा किया बल्कि किसी भी तरह के विरोध और नाराजगी को नकार दिया।

रविवार की रात सिंधिया समर्थक पूर्व मंत्री प्रद्युम्न सिंह तोमर और पूर्व विधायक मुन्ना लाल गोयल से मुलाकात करने प्रदेश के ग्रह एवं स्वास्थ्य मंत्री डॉ नरोत्तम मिश्रा ग्वालियर पहुंचे। वे डबरा से ग्वालियर आकर पहले पूर्व विधायक मुन्ना लाल गोयल के मुरार स्थित सरकारी आवास पर पहुंचे। मुन्ना लाल गोयल ने उंहेम पुष्प गुच्छ भेंटकर स्वागत किया। डॉ मिश्रा ने पूर्व विधायक से उनके स्वास्थ्य का हालचाल जाना। गौरतलब है कि पिछले दिनों मुन्ना लाल गोयल जब एक छात्र की हत्या के बाद परिजन से मिलने गए थे तब कुछ लोगों ने उनपर पत्थर से हमला कर दिया था जिसमें वे घायल हो गए थे। मंत्री डॉ मिश्रा ने श्री गोयल को पार्टी का संदेश सुनाया और चुनाव से जुड़ी जानकारी ली। मुन्ना लाल गोयल के यहाँ कुछ देर रुकने के बाद वे पूर्व मंत्री प्रद्युम्न सिंह तोमर के सरकारी आवास पर पहुंचे। श्री तोमर के रेसकोर्स रोड स्थित बंगला नंबर 38 पर बहुत भीड़ डॉ मिश्रा के स्वागत के लिये आतुर थी। मंत्री और उनके स्ताफ ने सभी से सोशल डिस्टेंसिंग बनाये रखने का निवेदन किया। मंत्री डॉ मिश्रा और पूर्व मंत्री श्री तोमर ने करीब आधा घंटे बंद कमरे में एकांत चर्चा की समझा जा रहा है कि प्रद्युम्न सिंह तोमर ने डॉ मिश्रा को ग्वालियर के वर्तमान राजनैतिक हालात की जानकारी दी। हालांकि मीडिया से बात करते हुए पूर्व मंत्री तोमर ने कहा कि स्वास्थ्य मंत्री ने कोरोना पर नियंत्रण और प्रभावी कार्रवाई के लिए बोला है।

बीच में माइक अपनी ओर करवाकर ये बोले मंत्री डॉ मिश्रा

मीडिया जब पूर्व मंत्री श्री तोमर से सवाल कर रही थी। तो श्री तोमर राजनैतिक सवाल के उत्तर देने से बच रहे थे। उनका कहना था कि जब चुनाव होगा तब उसकी बात करेंगे लेकिन मीडिया के लोग लगातार सवाल पूछ रहे थे तभी डॉ मिश्रा ने इशारा करते हुए कहा यहाँ आओ अब पूछो। एक सवाल के जवाब में डॉ मिश्रा ने कहा कि आपने पूछा कि पिछली बार प्रद्युम्न सिंह 20,000से जीते थे तो मैं कहता हूँ कि हम इस जीत को 30,000 तक ले जाने की कोशिश करेंगे। उन्होंने कहा कि हम अंचल की सभी सीटें जीतेंगे ये स्वभाविक कोर्स में जीतेंगे कोई चिंता वाली बात नहीं है।

वायरल वीडियो पर कांग्रेस को लिए आड़े हाथ

गृह मंत्री डॉ मिश्रा ने दिग्विजय सिंह द्वारा शिवराज सिंह का वीडियो वायरल होने के सवाल पर कहा कि जाँच हो रही है बिंदु सामने आने दीजिये। कांग्रेस के खरीद फरोख्त के आरोप पर जवाब देते हुए डॉ मिश्रा ने कहा कि कांग्रेस और क्या करेगी? अपना घर बचा नहीं पाई, अब अपनी असफलता छिपाने के लिए वो ऐसी ही बातें करेगी। एक पत्रकार ने जब हजप नेताओं के लगातार वीडियो वायरल होने के बाद भाजपा के बैक फुट होने की बात कही तो चेहरे के भाव बदलते हुए डॉ मिश्रा ने कहा कि पता नहीं आपको कहाँ से नजर आ रही है। आक्रामक है हम जिसकी सरकार गई है वो बैक फुट पर होगा कि जिसकी बनी है वो। आपका सवाल ही गलत है। भाजपा में सिंधिया सहित कांग्रेस से आए लोगों का सम्मान नहीं होने के कांग्रेस के आरोप पर जवाब देते हुए डॉ मिश्रा ने कहा कि भाजपा में किसका सम्मान हो रहा है और किसका अपमान ये क्या कांग्रेस तय करेगी। वो अपनी पार्टी के अपमान की चिंता कर ले। पहले ये सब चिंता की होती तो उसका ये हश्र नहीं होता। ग्वालियर में गुटबाजी और जिलाअध्यक्ष कमल माखी जानी के विरोध के सवाल जो सिरे से खारिज करते हुए डॉ मिश्रा ने कहा कि कहीं कोई गुट नहीं हैं सब भाजपा के हैं। उन्होंने सवाल करने वाले पत्रकार से कहा कि जिला अध्यक्ष का आपसे किसने विरोध किया मुझे कोई विजुअल दिखाइये। डॉ मिश्रा ने सिंधिया समर्थकों से मुलाकात की वजह छिपाते हुए सिर्फ इतना कहा कि पहले जिनसे मिलने आया था वे हमारे अग्रज हैं और आज जिनसे मिलने आया हूँ वे अनुज हैं। बहरहाल कम शब्दों में बहुत अधिक कह जाने वाले डॉ नरोत्तम मिश्रा ने एक घंटे की मुलाकातों में सिंधिया समर्थक दोनों नेताओं को पार्टी का संदेश दे दिया। डॉ मिश्रा का सिंधिया समर्थक पूर्व मंत्री इमरती देवी से भी मुलाकात का कार्यक्रम था लेकिन शनिवार को दिनभर डबरा के कार्यक्रमों में मुलाकात के बाद डॉ मिश्रा ने इमरती देवी से रविवार की मुलाकात का कार्यक्रम कैंसिल कर दिया।