दो महीने से बिजली गायब, ग्रामीणों ने घेरा ऊर्जा मंत्री प्रद्युम्न सिंह तोमर का बंगला

ग्रामीणों से चेतावनी दी कि ऊर्जा मंत्री के बंगले के बाहर तब तक बैठे रहेंगे जब तक बिजली समस्या दूर नहीं हो जाती।

ग्वालियर, अतुल सक्सेना। मध्यप्रदेश के ऊर्जा मंत्री प्रद्युम्न सिंह तोमर (Energy Minister Prdyuman Singh Tomar) बिजली समस्या को दूर करने के लिए लगातार  प्रयास कर रहे हैं लेकिन उनके ही घर यानि ग्वालियर के ही लोग बिजली की समस्या से जूझ रहे हैं। सोमवार को परेशान  ग्रामीणों ने ऊर्जा मंत्री के बंगले का घेराव किया और चेतावनी दी कि वे तब तक नहीं हटेंगे जब तक समस्या दूर नहीं हो जाती।

ऊर्जा मंत्री प्रद्युम्न सिंह तोमर के बंगले का घेराव करने पहुंचे ग्रामीण पदमपुर खेरिया गांव के हैं , ये नगर निगम के वार्ड नंबर 62 में आता है। पीड़ित ग्रामीणों का नेतृत्व कर रहे योगेश दंडोतिया का कहना है कि हमारे गांव का ट्रांसफॉर्मर (Transfarmer) दो महीने से खराब पड़ा है। बिजली विभाग के अधिकारियों ने कहा कि 10 प्रतिशत राशि जमा कर दो तो ट्रांसफार्मर बदल देंगे हमने 10 की जगह 30 प्रतिशत राशि भर दी फिर भी ट्रांसफार्मर नहीं बदल रहे।  ग्रामीणों से चेतावनी दी कि ऊर्जा मंत्री के बंगले के बाहर तब तक बैठे रहेंगे जब तक बिजली समस्या दूर नहीं हो जाती।

ये भी पढ़ें – MP Weather : मानसून की विदाई जल्द, इन जिलों में बारिश और बिजली गिरने के आसार

ग्रामीणों ने कहा कि बिजली नहीं होने से गांव में डेंगू मलेरिया जैसी संक्रामक बीमारियां फ़ैल रही हैं। उसका जिम्मेदार कौन होगा ? उन्होंने कहा कि बिजली नहीं है फिर भी बिजली कंपनी के अधिकारी मोठे मोठे बिल भेज रहे हैं हम कहाँ से भरेंगे ?

ये भी पढ़ें – MPPEB: 13 परीक्षाओं की समय सारणी जारी, 2022 में होगी पुलिस आरक्षक भर्ती परीक्षा

उधर घेराव की सूचना मिलने पर पहुंचे बिजली कंपनी के डीजीएम गगनदेव शर्मा ने कहा कि पदमपुर खेरिया का ट्रांसफार्मर फेल है उसपर साढ़े तीन लाख रुपये बकाया है, नियमानुसार ट्रांसफर ख़राब होने पर 10 प्रतिशत राशि जमा करने पर ही बदला जाता है, हमने तीन दिन पहले कैम्प भी लगाया था लेकिन ग्रामीणों से 10 प्रतिशत राशि जमा नहीं की। जब ग्रामीण ये राशि भर देंगे तो ट्रांसफार्मर बदल दिया जायेगा।

ये भी पढ़ें – Gold Silver Rate : सोना हुआ महंगा, चांदी पुरानी कीमत पर, जानिए ताजा रेट