सात दिन में दूसरी बार सिंधिया का अंचल का दौरा निरस्त, चर्चाओं का बाजार गर्म

Scindia's-gwalior-visit-canceled-second-time-in-a-week---

 ग्वालियर।  अखिल भारतीय कांग्रेस कमेटी के महामंत्री एवं गुना शिवपुरी के पूर्व सांसद ज्योतिरादित्य सिंधिया का 7 जून का प्रस्तावित दौरा निरस्त हो गया है। इससे पहले वे 4 जून को आ रहे थे। वो दौरा भी अपरिहार्य कारण बताकर निरस्त हो गया था। सात दिन में दो बार दौरा कार्यक्रम निरस्त होने के बाद से राजनैतिक गलियारों में चर्चाओं का बाजार गर्म हो गया है।

गुना शिवपुरी की पारिवारिक संसदीय सीट पर मिली सवा लाख वोटों की करारी हार के बाद से कांग्रेस सदमे से उबर नहीं पाई है। पूर्व सांसद ज्योतिरादित्य सिंधिया भी मतदान वाले दिन 12 मई के बाद से यहाँ नहीं पहुंचे | वहीं ग्वालियर से गुना शिवपुरी अशोकनगर गए ग्वालियर के सिंधिया समर्थक नेता भी ग्वालियर में अपने घरों में आराम फार्मा रहे हैं। ऐसे में गुना शिवपुरी और अशोकनगर का कांग्रेस कार्यकर्ता समझ नहीं पा रहा है कि वो अब कहाँ जाये। कार्यकर्ताओं की परेशानी को समझते हुए पूर्व सांसद ज्योतिरादित्य सिंधिया ने 4 जून को क्षेत्र के लिए दौरा कार्यक्रम बनाया। कार्यक्रम के तहत पब्लिक मीटिंग होनी थी। लेकिन एन वक्त पर इस दौरे को निरस्त कर दिया गया। बताया गया कि राहुल गांधी ने सिंधिया को दिल्ली में ही रुकने के लिए ही कहा है। इस दौरे के निरस्त होने के बाद 7 और 8 जून का दौरा कार्यक्रम बनाया गया। जिसमें पब्लिक मीटिंग निरस्त कर कार्यकर्ताओं के साथ मीटिंग गई। आज ये दौरा भी अपरिहार्य कारण बताकर निरस्त हो गया। अब सात दिन में दो बार दौरा निरस्त होने से राजनैतिक गलियारों में चर्चा शुरू हो गई है। सिंधिया दिल्ली में हैं और  प्रदेश अध्यक्ष को लेकर भी चर्चाएं जोरों पर हैं, सीएम कमलनाथ भी तीन दिवसीय दौरे पर दिल्ली पहुंचे हैं| जिसके चलते अटकलों का दौर जारी है| 

राजनेता आपस में फुसफुसा रहे हैं कि सिंधिया क्षेत्र में जाने से कतरा रहे हैं पहले उन्हें डर था कि कहीं पब्लिक मीटिंग में भीड़ नहीं जुट पाई तो हार के बाद और फजीहत हो जाएगी इसलिए 4 जून का दौरा निरस्त किया। उसके बाद आज का दौरा इस बात के चलते निरस्त किया गया कि गुना शिवपुरी और अशोकनगर का कार्यकर्ता कहीं अपनी बौखलाहट ना निकाल दे और यदि ऐसा हुआ तो बेकार में मीडिया में सुर्खियां बनेगी। बहरहाल अन्दर की बात कुछ भी हो सात दिन में सिंधिया द्वारा अपने संसदीय क्षेत्र का दौरा निरस्त करना कांग्रेस के अंदरखाने में उथलपुथल को जरुर उजागर कर दिया है।