व्यापमं व्हिसिल ब्लोअर का आरोप- ‘पाक से सम्बन्ध वाली कम्पनी को दिया जा रहा ई-पासपोर्ट का काम’

ग्वालियर। प्रदेश के सबसे बड़े घोटाले में शुमार व्यापमं घोटाले को उजागर करने वाले  व्हिसिल ब्लोअर ने अब ई पासपोर्ट मामले में घोटाले का खुलासा किया है। व्हिसिल ब्लोअर आशीष चतुर्वेदी ने वरिष्ठ अधिकारियों पर गंभीर आरोप लगाते हुए कहा है कि टेंडर की शर्तों का उल्लंघन करते हुए पाकिस्तान से सम्बन्ध रखने वाली कम्पनी को लाभ पहुंचाया है । आशीष ने इसकी शिकायत पीएमओ सहित अन्य जगह की है। 

व्यापमं मामले के व्हिसिल ब्लोअर आशीष चतुर्वेदी ने केंद्र सरकार द्वारा पूरी की गई ई  पासपोर्ट टेंडर प्रक्रिया पर गंभीर आरोप लगाये है। उन्होंने बताया कि भारत सरकार ने ई पासपोर्ट के लिए टेंडर जारी किया था जिसमें बहुत सारी विदेशी कम्पनियों ने भी हिस्सा लिया। और फिर तीन से चार कम्पनियां अंतिम दौर में पहुंच गईं। जिसमें से फ़्रांस की कम्पनी जिमेल्टो को ये टेंडर दिया जाना लगभग तय है। आशीष का कहना है कि उनके सूत्रों से उन्हें जानकारी लगी कि ये कम्पनी पाकिस्तान से भी सम्बन्ध रखती है जबकि शर्तों के हिसाब से चीन या पाकिस्तान से किसी भी तरह का सम्बन्ध रखने वाली कोई भी कम्पनी इस टेंडर में शामिल नहीं हो सकेगी। आशीष ने कहा कि उन्होंने उन्हें प्राप्त दस्तावेजो को चेक किया तो बात सही निकली। उन्होंने आरोप लगाया कि प्रक्रिया से जुड़े भारतीय विदेश सेवा और भारतीय प्रशासनिक सेवा के अधिकारियों इसको नजरंदाज किया और इंटेलिजेंस ने कम्पनी का वेरिफिकेशन नहीं किया। अशिः चतुर्वेदी ने आरोप लगाया कि वरिष्ठ अधिकारियों ने पाकिस्तान और आई एस आई से जुड़ी कम्पनी की मदद की और उसे टेंडर प्रक्रिया के अंतिम दौर में पहुंचाया। जिसकी शिकायत उन्होंने पीएमओ,  विदेश मंत्रालय, डायरेक्टर सीबीआई , पासपोर्ट एथोरिटी से की है। उन्होंने मांग की है कि इस प्रक्रिया को निरस्त किया जाये और दोषी अधिकारियों के खिलाफ कार्रवाई की जाये।