Woman-asks-Euthanasia-with-son

ग्वालियर। जिले के टेकनपुर स्थित बीएसएफ सीनियर सेकेंडरी स्कूल के स्टाफ क्वार्टर में रह रही बिंदु महंत नामक महिला अपने नाबालिग बेटे के साथ इच्छा मृत्यु का आवेदन लेकर पहुँच गई। लेकिन चुनावी व्यस्तताओं के चलते उन्हें वहां कोई अधिकारी नहीं मिला। और वे मायूस होकर लौट गईं।

दरअसल बकौल बिंदु महंत उनके पति छविदास महंत बीएसएफ  सीनियर सेकेंडरी स्कूल टेकनपुर में डांस टीचर थे । 22 जुलाई 2015 को उनकी मृत्यु हो गई। उसके बाद से वे लगातार स्कूल प्रबंधन से गुहार लगा रहीं हैं लेकिन उन्हें आज दिनांक तक ना तो आर्थिक सहायता मिली है और ना ही अनुकम्पा नियुक्ति। बिंदु महंत के मुताबिक उनका 15 साल का एक बेटा है जिसका पालन पोषण वे बहुत मुश्किल से कर पा रही है। उन्हें कहीं से कोई मदद नहीं मिलती । ऐसे स्थिति में अब स्कूल प्रबंधन उनसे स्टाफ क्वार्टर भी खाली करवा रहा है। उनका कहना है कि यदि घर भी चला गया तो वे कहाँ जाएँगी इससे तो अच्छा है कि उन्हें बेटे सहित इच्छा मृत्यु की अनुमति दी जाये। उन्होंने ये आवेदन प्रधानमंत्री, चीफ जस्टिस ऑफ इण्डिया,महानिदेशक बीएसएफ और कलेक्टर ग्वालियर को संबोधित करते हुए लिखा है।