रानी लक्ष्मीबाई

ग्वालियर, अतुल सक्सेना। 1857 के प्रथम स्वतंत्रता संग्राम की महानायिका रानी लक्ष्मीबाई (rani lakshmibai) की शहादत को याद करते हुए ग्वालियर (gwalior) में उनकी समाधि पर आयोजित दो दिवसीय बलिदान मेले के अंतिम दिन पुष्पांजलि अर्पित की गई। इस अवसर पर 7 महिलाओं (females) को कोरोना योद्धा (corona warrior) सम्मान से भी सम्मानित किया गया।

यह भी पढ़ें… International Picnic Day: जरूरी है पिकनिक पर जाना! आइए जानते हैं क्यों

फूलबाग क्षेत्र में स्थित झांसी की रानी लक्ष्मीबाई की समाधि पर आज 18 जून को रानी के बलिदान दिवस पर उन्हें पुष्पांजलि अर्पित की गई। कार्यक्रम में हरियाणा के पूर्व राज्यपाल प्रोफेसर कप्तान सिंह सोलंकी, पूर्व मंत्री माया सिंह एवं बलिदान मेले के संस्थापक पूर्व मंत्री जयभान सिंह पवैया विशेष रूप से मौजूद थे । इस मौके पर कोरोना काल में विभिन्न क्षेत्रों में काम करने वाली 7 महिलाओं को कोरोना योद्धा सम्मान से सम्मानित किया गया। सम्मानित होने वालों मे डॉ नीलिमा टंडन, डॉ नीलिमा सिंह, डॉ अर्चना कंसल, IPS हितिका वासल, नर्स टिंटू कुंचेरिया, स्वच्छताकर्मी चंपा और किरण को वीरांगना कए नाम पर नारी शक्ति सम्मान एवं कोरोना योद्धा सम्मान दिया गया।

रानी लक्ष्मीबाई

यह भी पढ़ें… MP Politics: जयवर्धन के लिए इस तैयारी में दिग्विजय! Kamalnath के लिए बनेंगे चुनौती

बलिदान मेले के संस्थापक पूर्व मंत्री जयभान सिंह पवैया ने इस मौके पर कहा कि आज मातृशक्ति को सम्मानित करते हुए मन प्रसन्न है क्योंकि इन्होंने कोरोना काल में जो किया वो किसी साहस से कम नहीं है जब हम कोरोना महामारी में घरों में सुरक्षित थे तब ये बहने अपने घर परिवार को छोड़ अपनी जान जोखिम में डालकर समाज की सेवा कर रही थी।