बाल सुधार गृह से 8 बाल अपराधी भागे, व्यवस्थाओ पर उठे सवाल

इंदौर|  इंदौर के परदेशीपुरा स्थित बाल सुधार गृह से आज फिर से आठ बाल आरोपियों का भागने का मामला सामने आया है इसके पहले भी इसी बाल सुधार गृह से तीन आरोपी भाग चुके हैं सूचना पर तुरंत हीरानगर व परदेशीपुरा थाने का बल व पुलिस के आला अधिकारी मौके पर पहुंचे और स्थिति का जायजा लिया। घटना की गम्भीरता को देखते ही सूचना मिलने पर जिला कलेक्टर लोकेश जाटव और एसएसपी रूचिवर्धन मिश्र इंदौर भी मौके पर पहुंच गए। घटना इंदौर के हीरा नगर थाना क्षेत्र के बाल सुधार गृह की है। जहां गंभीर अपराधों की सजा काट रहे आठ बाल आरोपी आज खिड़की की ग्रिल तोड़कर भाग निकले। बताया जा रहा है भागने वाले 8 बाल अपराधियों में से 4 बालिग हो चुके है। मौके पर पहुंची पुलिस पुलिस ने स्थिति का जायजा लिया और आरोपियों की तलाश शुरू कर दी है।

यह पहला मामला नहीं है कि यहां से बाल आरोपी भाग गए हो इसके पहले भी तीन आरोपी यहां से भाग गए थे जिन्हें कुछ दिन बाद पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया गया था पुलिस के मुताबिक फरार हुए आरोपी भिंड,धार, उज्जैन व इंदौर के गंभीर अपराधों में लिप्त आरोपी हैं जिन्हें इंदौर के बाल सुधार गृह में रखा गया था। इंदौर एसएसपी प्रशांत चौबे ने बताया कि बताया कि बाल अपराधियों के भागने के मामले में जानकारी जुटाकर उन्हें पकड़ने की कोशिश के पुलिस जुट गई है। आपको बता दे की यह पहली घटना नहीं इससे पहले भी कई बाल अपराधी यहाँ से भाग चुके है क्योकि सुधार गृह में सुरक्षा के पुख्ता इंतजाम नहीं है जिसके कारण बार – बार बाल अपराधी भाग जाते है। पुलिस की माने तो 8 अभिचारी बालक सुधार गृह से भागे है जिसके बाद पुलिस के आला अधिकारी और जिला कलेक्टर भी मौके पर पहुंचे थे ताकि भविष्य में इस तरह की घटना ना हो इसके लिए निर्देश भी दिए है। पुलिस ने विश्वास जताया कि कानूनी प्रावधानों के अनुसार बाल अपराधियो को वापस लाया जाएगा।  इधर, इस मामले में बाल सुधार गृह के सुपरिटेंडेंट आर. के. द्विवेदी ने बताया कि आज अलसुबह 8 बच्चे भोजनशाला की ग्रिल उखाड़कर भाग गए जिसकी सूचना उन्हें सुबह 7 बजकर 15 मिनिट पर मिली। वही उन्होंने कहा बच्चो में कोई विवाद नही हुआ था लेकिन बिल्डिंग के जर्जर होने की बात मानकर कहा कि इस संबंध में कलेक्टर जो भी निर्देश उस हिसाब से काम किया जाएगा। फिलहाल बाल सुधार गृह प्रशासन पर कई सवाल उठ रहे है क्योंकि गंभीर अपराधों में लिप्त बाल अपराधियो के भाग जाने की ये कोई पहली घटना नही इसके पहले भी 2 माह पहले 5 बाल अपराधी भागे थे जिन्हें बड़ी मुश्किल से लेकर आय गया था।