इंदौर में इस वजह से बीजेपी और कांग्रेसी कार्यकर्ता आपस मे भिड़े

इंदौर। आकाश धौलपुरे। 

प्रदेश में नगरीय निकाय चुनाव को लेकर तैयारियां शुरू भी नहीं हुई है इससे पहले ही प्रदेश की आर्थिक राजधानी इंदौर में सियासत गरमाने लगी है। आरोप-प्रत्यारोप का दौर शुरू हो गया है। एक तरफ जहां कांग्रेस नेता रहवासियों के साथ मिलकर परिषद पर काबिज सत्ता पक्ष को घेरने की कवायद कर रहे हैं, वहीं दूसरी तरफ भाजपा पार्षद भी प्रदेश की सत्ता पर काबिज कांग्रेस सरकार पर रहवासियों को परेशान करने का आरोप लगा रहे हैं। दरअसल इंदौर के विधानसभा क्षेत्र क्रमांक 2 के वार्ड क्रमांक 27 के रहवासी कांग्रेस ब्लॉक अध्यक्ष बब्बू यादव के नेतृत्व में सुभाष नगर जोनल कार्यालय का घेराव करने पहुंचे। रहवासियों का आरोप था कि लंबे समय से क्षेत्र में गंदे पानी की समस्या बनी हुई है। कई बार शिकायत करने के बावजूद समस्या का समाधान नहीं होने से आक्रोशित रहवासियों ने जोनल कार्यालय का घेराव करते हुए जोनल अधिकारी को गंदा पानी सौंपा। प्रदर्शनकारियों ने 7 दिन का समय अधिकारियों को दिया है, यदि 7 दिन में समस्या का समाधान नहीं हुआ तो उग्र प्रदर्शन करने की चेतावनी भी दी गई है। वही जोनल अधिकारी ने समय सीमा में समस्या का निराकरण करने का आश्वासन दिया है। रहवासियों के प्रदर्शन के बाद एमआईसी मेंबर और भाजपा पार्षद चंदू शिंदे मौके पर पहुंचे। उन्होंने कांग्रेस कार्यकर्ताओं पर ही जानबूझकर ड्रेनेज लाइन फोड़ने और अधिकारियों पर दबाव बनाकर पानी का सप्लाई रोकने का आरोप लगाया। उनका कहना था कि भाजपाई पार्षदों को बदनाम करने के लिए कॉन्ग्रेस कार्यकर्ता साजिश कर रहे हैं। वही प्रदर्शन करने वाले बब्बू यादव ने कहा कि क्षेत्र में लंबे समय से समस्या होने के बावजूद जब पार्षद द्वारा मामले को गंभीरता से नहीं लिया गया, तब उन्होंने रहवासियों के साथ प्रदर्शन किया।उनका कहना था कि कांग्रेस कार्यकर्ताओं पर झूठे आरोप लगाकर भाजपा पार्षद अपनी निष्क्रियता को छुपाना चाहते हैं। वहीं उन्होंने एमआईसी मेंबर चंदू शिंदे पर अधिकारियों को धमकाने और दबाव डालने का आरोप भी लगाया। जोनल कार्यालय पर ही चंदू शिंदे और बब्बू यादव की आपस में नोकझोंक भी हुई।