kisaan

इंदौर, आकाश धोलपुरे। दिल्ली बार्डर पर बीते 26 दिनों से 3 कृषि बिलों (Agricultural Bills) को रद्द कर वापस लेने की मांग को लेकर लाखो की संख्या में दिल्ली बॉर्डर (Delhi Border) पर हरियाणा और पंजाब (Haryana And Punjab) के किसान आंदोलित है। कंपकंपाती ठंड में किसान आंदोलन (Farmers Protest) जारी है, विपक्ष भी मोदी सरकार द्वारा लाये गए कृषि कानूनों के विरोध में लामबंद है। वही कांग्रेस (Congress) भी इस मामले को लेकर किसानों की हमदर्द बनने की कोशिश कर रही है। कुछ ऐसी ही एक कोशिश इंदौर (Indore) में 3 कांग्रेसियो ने की।

यह भी पढ़े… Indore News – वायरल वीडियो वाली लेडी डॉन का कहर, मारपीट के बाद चाकू से धमकाया

दरअसल, प्रदेश कांग्रेस कमेटी के सचिव विवेक खण्डेलवाल (Vivek Khandelwal, Secretary, Pradesh Congress Committee), देवेंद्र सिंह यादव और गिरीश जोशी किसानों के समर्थन में राजबाड़ा स्थित अहिल्या प्रतिमा उद्यान में बने कुंड में 2 घण्टे तक सांकेतिक जल सत्याग्रह किया। सोमवार सुबह इंदौर में किसानों के समर्थन में नारे लगाकर सांकेतिक जल सत्याग्रह करने वाले कांग्रेस नेताओं (Congress Leaders) चेतावनी दी है कि अगर जल्द ही किसानों की मांग नही मानी गई तो वे आमरण जल सत्याग्रह अनशन करेंगे।

अलसुबह किये गए जल सत्याग्रह के दौरान विवेक खण्डेलवाल ने बताया कि देश के लाखों किसान दिल्ली बॉर्डर पर मोदी सरकार द्वारा किसान विरोधी काले कानून के खिलाफ 25 दिन से धरने पर बैठे है, मगर मोदी सरकार किसानों के वाजिब मांग सुनने के बजाय उन्हें आतंकवादी और माओवादी बताने में जुटी है। सरकार के मंत्री और स्वयं प्रधानमंत्री किसानों की समस्या हल करने के बजाय किसान बिल को सही बताने के लिए रैली कर रहे है।

यह भी पढ़े… MP Politics: सिंधिया समर्थकों ने मिलाए दिग्विजय सिंह के सुर में सुर, बीजेपी में हड़कंप

इतना ही नही दिल्ली बार्डर पर मोदी सरकार (Modi Government) की हठधर्मिता के कारण 22 किसानों की मौत धरना स्थल पर हो गई है। जिन्हें आज कांग्रेस श्रद्धांजलि अर्पित करती है। खण्डेलवाल ने बताया कि किसान सिर्फ एमएसपी (MSP) को काननू बनाने की मांग कर कर रहा है लेकिन मोदी सरकार अडानी -अम्बानी (Adani – Ambani) के बनाये गए कृषि कानून (Agricultural Bill) को थोप रही है।