इंदौर, आकाश धोलपुरे। मध्य प्रदेश (Madhya Pradesh) के गृहमंत्री और इंदौर (Indore) के प्रभारी मंत्री दो दिवसीय दौरे का शुक्रवार दूसरा और महत्वपूर्ण दिन था। इंदौर में मंत्री डॉक्टर नरोत्तम मिश्रा (Dr. Narottam Mishra) ने प्रशानिक संकुल पहुंचकर कोरोना समीक्षा बैठक की। बैठक में मंत्री तुलसी सिलावट, मंत्री उषा ठाकुर सहित बीजेपी विधायक, नेता और प्रशासनिक अधिकारी मौजूद रहे। कोविड-19 (COVID-19) की समीक्षा बैठक के दौरान तीसरी लहर की आशंका के चलते आपदा प्रबंधन समूह के साथ ली गई बैठक में प्रभारी मंत्री विशेष दिशा निर्देश भी जारी किए। इस दौरान उन्होंने पूर्व सीएम कमलनाथ (Kamal Nath) पर निशाना भी साधा और साथ ही मीडिया से बातचीत के दौरान लंबे समय से इंदौर से जमे अधिकारियों को चेताया कि जल्द ही वे ट्रांसफर के लिए तैयार रहे।

यह भी पढ़ें…MP College: कॉलेज छात्रों के लिए काम की खबर, राज्यपाल ने विभाग को दिए ये निर्देश

प्रदेश के गृहमंत्री और इंदौर के नवागत प्रभारी मंत्री ने बैठक के बाद मीडिया से चर्चा की और कोरोना, लगभग खत्म होना बताया साथ ही महामारी में बेहतर काम करने के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान की सरकार की तारीफ भी उन्होंने की। उन्होंने इंदौर में कहा कि प्रदेश के सीएम और देश के पीएम कोरोना की रोजाना समीक्षा करते है। वहीं प्रभारी मंत्री ने कहा कि इंदौर में 10,000 प्रतिदिन कोरोना टेस्ट का लक्ष्य रखा गया है। वहीं जहां तक सवाल तीसरी लहर के सभावनाओं का है इसको लेकर पूरी तैयारी की जा रही है। उन्होंने कहा कि बच्चो व गर्भवती महिलाओं के लिए करीब 15 सौ बिस्तर की व्यवस्था अलग से की गई है और 42 अस्पताल संभावित तीसरी लहर के लिए चिन्हित किये गए है साथ ही ऑक्सीजन भी व्यवस्था की जा रही है।

इस दौरान डॉक्टर नरोत्तम मिश्रा ने ये भी कहा कि सरकारी नौकरी में रहते हुए जिन कर्मचारियों ने जान गवाई उनके परिजनों को नियमानुसार एक महीने में अनुकम्पा नियुक्ति दी जाएगी। वहीं उन्होंने बंगाली चौराहा फ्लायओवर दिवंगत माधवराव सिंधिया के नाम से बनाने की घोषणा भी की। इसके अलावा इंदौर के टीबी अस्पताल के नाम को बदलने घोषणा जल्द ही करने की बात कही।

यह भी पढ़ें… कमलनाथ के निवास पर विधायकों की हुई बैठक पर बोले सांरग, कहा- कांग्रेस का काम केवल राजनीति करना है

इंदौर में उन्होंने अधिकारियों से कहा कि जो अधिकारी कई वर्षों से जमे हुए हैं आने वाले दिनों में उनका भी तबादला किया जाएगा। इसके अलावा उन्होंने कोरोना की तीसरी लहर को आने से रोकने के लिए हर सम्भव प्रयास सरकार द्वारा किये जाने का आश्वासन दिया और अपराधियों पर शिंकजा कसने के साथ ही भू-माफियाओं पर सख्त कार्रवाई के निर्देश पुलिस के आला अधिकरियों को दिए। इसके अलावा इंदौर के बेतरतीब ट्रैफिक को लेकर एक सुधार योजना के तहत ठीक करने की बात भी कही।

इधर, टीकाकरण केंद्रों पर वैक्सीन की कमी को लेकर प्रभारी मंत्री ने कहा कि यह योजना राज्य सरकार ने नहीं बनाई है। यह केंद्र तय करता है हालांकि गृह मंत्री ने वैक्सीन जल्द आने की बात भी इंदौर में कही। वहीं जब उनसे सवाल किया गया कि पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ कांग्रेस को मजबूत करने के मकसद से 27 जिलों की यात्रा करने वाले है तो गृहमंत्री ने कि मैं भगवान से प्रार्थना करता हूं कि पहले वो पूर्ण रूप से स्वास्थ हो जाए।

इधर, सरकारों की तुलना पर गृहमंत्री ने कहा कि कांग्रेस की सरकार में वल्लभ भवन में भ्रष्टाचार का अड्डा बना हुआ था। ऐसे में उस सरकार की तुलना हमारी सरकार से नही की जानी चाहिए। इधर, कांग्रेस पर तंज कसते हुए गृहमंत्री ने अपने अंदाज में कहा कि मध्यप्रदेश में विकास की गति 15 महीने कांग्रेस की कमलनाथ सरकार और 15 महीने कोरोना के चलते रुक गई थी। वही कमलनाथ सरकार, बनते ही क्वारन्टीन हो गए थी और वो वल्लभ भवन से नहीं निकले थे लेकिन उस समय सलमान और जैकलिन के साथ आने का था इसी बीच पता नहीं क्या ग्रहण लग गया।

इसके अलावा बढ़ती पेट्रोल डीजल मूल्य वृद्धि को लेकर गृहमंत्री ने कहा कि राज्य में पेट्रोल और डीजल का टैक्स भाजपा सरकार ने नहीं बढ़ाया है यह तो कांग्रेस की सरकार घोषणा पत्र में देखा जा सकता है कि राज्य में वेट कम करने की बात कही गई थी। लेकिन कमलनाथ सरकार ने वैट टैक्स बढ़ाया था। जिसका नतीजा आज भी दिखाई दे रहा है। वहीं उन्होंने कहा कि कोरोना की आपदा भाजपा की वजह से नहीं आई है लेकिन इसमें सभी को साथ मिलकर काम करना चाहिए जो कांग्रेस पार्टी ने नहीं किया। कोविड-19 के चलते सभी प्रभावित हुए हैं जिसमें सरकार भी शामिल है।

इधर, भारत निर्वाचन आयोग के नए भवन के शुभारंभ के दौरान उन्होंने कहा कि विपक्षी दल जब हार जाते है। तो ईवीएम मशीन पर दोष डाल देते है इसलिए निर्वाचन आयोग को ऐसी व्यवस्था करनी पड़ी। हालांकि उन्होंने प्रशासनिक अधिकारियों को ये भी कहा कि नेहरू स्टेडियम से जल्द ही ईवीएम मशीने यहां लेकर आई जाए ताकि नेहरू स्टेडियम में खेल गतिविधियां जारी रहे।