सड़क पर पानी बहाना बन सकता है जेब पर खतरा, इंदौर नगर निगम चालानी कार्रवाई के मूड में

यदि कोई पहली बार पानी फैलाते हुए पाया जाता है तो उससे स्पॉट फाइन 100 रुपए लिया जाएगा।  अगर दोबारा पानी फैलाया जाता है तो 200 रुपए का दंड वसूला जाएगा, लेकिन लापरवाही अगर लगातार जारी रहती है तो चालान की राशि दोगुना होती जाएगी।

इंदौर,डेस्क रिपोर्ट। इंदौर (Indore) को फिर से स्वच्छता सर्वेक्षण में नंबर वन बनाने के लिए नगर निगम (Indore municipal Corporation)  ने कवायद शुरू कर दी है। सड़क (Road) और फुटपाथ (Foothpath) पर पानी फैलाने को लेकर नगर निगम काफी सख्त हो गया है और इसको लेकर इंदौर में सोमवार से चालानी कार्रवाई (Spot Fine) भी शुरू की जाएगी, जिसको लेकर नगर निगम के अधिकारियों द्वारा जल कार्य और स्वास्थ्य विभाग के मैदानी अमले को रिपोर्ट भेजकर दिशा निर्देश दिए गए हैं। सड़क और फुटपाथ पर पानी फैलाने को लेकर होने वाली चालानी (Fine) कार्रवाई स्वच्छता सर्वे के तहत पहली बार निगम द्वारा की जा रही है।

बीते दिन निगमायुक्त प्रतिभा पाल ने अपर आयुक्त को निर्देश दिए थे कि अगर किसी के घर के पोर्च से या गाड़ी धोते वक्त पानी सड़क या फुटपाथ पर बहता है तो उसके खिलाफ चालानी कार्रवाई की जाए। इस कार्रवाई में उन लोगों को भी शामिल किया जाए जो घरों में या घर के बाहर लगे नलों की टोटियों को खुला छोड़ कर फालतू में पानी बहाते हैं। नलों की टोटियों को खुला छोड़ने से पानी तो बहता ही है पर इसके साथ गंदगी और कीचड़ भी फैलती है।

आयुक्त द्वारा दिए गए निर्देश को लेकर अधिकारियों ने तय किया है कि यदि कोई पहली बार पानी फैलाते हुए पाया जाता है तो उससे स्पॉट फाइन 100 रुपए लिया जाएगा।  अगर दोबारा पानी फैलाया जाता है तो 200 रुपए का दंड वसूला जाएगा, लेकिन लापरवाही अगर लगातार जारी रहती है तो चालान की राशि दोगुना होती जाएगी।

अपर आयुक्त बताते हैं कि नर्मदा प्रयोजन के सहायक यंत्री और उपयंत्रीओं स्वास्थ्य विभाग के मुख्य स्वास्थ्य निरीक्षक को निर्देश दिए गए हैं कि वह सोमवार से फील्ड पर रहकर ऐसे लोगों पर निगरानी रखें और उनकी पहचान कर कार्रवाई करें जो लोग घरों या संस्थानों के आसपास पानी को फैलाते हैं। पानी फैलाने पर अगर कार्रवाई नहीं की जाती है तो यंत्री या सीएसआई से जवाब तलब किया जाएगा। जो छोटे होटल और ठेले वाले हैं उन पर भी गंदगी फैलाने को लेकर कार्रवाई की जाएगी।