Indori Zayka : इंदौर की इस फेमस जगह पर जरूर लें भुट्टे की कचौरी मजा, नहीं भूल पाएंगे स्वाद

इंदौर शहर (Indore) खाने के लिए जाना जाता है। यहां दूर-दूर से लोग सिर्फ खाने का लुफ्त उठाने के लिए आते हैं। खास बात यह है कि इंदौर का खाना (Indori Zayka) लोगों के दिलों में इस तरह बस जाता है कि वह कभी भी उसे भूल नहीं पाते हैं।

Indori Zayka

इंदौर शहर (Indore) खाने के लिए जाना जाता है। यहां दूर-दूर से लोग सिर्फ खाने का लुफ्त उठाने के लिए आते हैं। खास बात यह है कि इंदौर का खाना (Indori Zayka) लोगों के दिलों में इस तरह बस जाता है कि वह कभी भी उसे भूल नहीं पाते हैं। इंदौर शहर में आपको हर सीजन के अनुसार नई-नई चीजें खाने को मिलती है। इन दिनों बारिश का मौसम चल रहा है, ऐसे में ककड़ी, भुट्टे सबसे ज्यादा लोगों को इस मौसम में खाना पसंद होते हैं।

लोग बारिश के मौसम का लुफ्त उठाने के लिए दूर-दूर घूमने जाते हैं, जहां वह भुट्टे और ककड़ी का आनंद लेते हैं। ऐसे में ही बारिश के मौसम में भुट्टे से बनी चीजों का भी लुफ्त लोग उठाना पसंद करते हैं। आपको बता दें, इंदौर शहर में भी खाने के जायके के साथ भुट्टे को कुछ इस अंदाज में संजोया गया की अब उसके कई व्यंजन साल भर और खिलाए जाते हैं।

Must Read : मुंबई पुलिस स्टेशन पहुंचे Salman Khan, लोगों के साथ पुलिसवालों ने घेरा, ये है पूरा मामला

आज हम आपको सड़क के किनारे बनने वाली टेस्ट में लाजवाब भुट्टे की कचोरी के बारे में बताने जा रहे हैं। अगर आप भी इंदौर आते रहते हैं तो एक बार जरूर भुट्टे की कचोरी खा कर देखें, आप इसका स्वाद कभी नहीं भूल पाएंगे। खास बात है कि सिर्फ बारिश के सीजन में ही नहीं आप भुट्टे की कचोरी इंदौर शहर में साल भर खा सकते हैं।

वैसे तो इंदौर में कई जगह पर भुट्टे की कचोरी मिलती है। लेकिन मालगंज और उषा नगर रोड पर एक पुरानी अन्नपूर्णा रिफ्रेशमेंट दुकान है, जहां की कचोरी का स्वाद आप जीवन भर नहीं भूल पाएंगे। जी हां, क्योंकि उसकी कचोरी के ऊपर डाले जाने वाले जीरावन और नींबू का रस उसका स्वाद दुगुना कर देता है।

ऐसे बनाई जाती है कचोरी –

आपको बता दें, इंदौर में भुट्टे की कचोरी एक खास अंदाज में बनाई जाती है इसको बनाने के लिए खास मसालों का उपयोग कर इसका स्वाद दोगुना कर दिया जाता है, जिसकी वजह से लोग इसे खाना बेहद पसंद करते हैं। दरअसल भुट्टे की कचोरी बनाते वक्त सबसे पहले भुट्टे को किसते हैं।

उसके बाद एक कढ़ाई में राई, खड़ा धनिया, खड़ी सौंफ, लाल मिर्ची, नमक स्वाद अनुसार डालकर उसे खूब पकाया जाता है। उसके बाद इस मसाले के तैयार होने के बाद मैदे से बनी पूरी में इस मसाले को भरा जाता है। उसके बाद इसे तेल में तलकर तैयार किया जाता है।

कचोरी बनाने वाले योगेश और आशुतोष शर्मा द्वारा यह बताया गया है कि उनके पिताजी सत्यनारायण शर्मा द्वारा की गई थी। जिसके बाद से लेकर अभी तक की कचोरी वैसी की वैसी ही बनती आ रही है। इसके स्वाद में भी कोई बदलाव अभी तक नहीं हुआ है।

उन्होंने बताया है कि कचोरी के अंदर भरने वाला जो मसाला तैयार किया जाता है, उसमें साधारण मसाले के साथ-साथ एक खास बना हुआ गरम मसाला मिलाया जाता है। जिसमें जावित्री दालचीनी, लॉन्ग, बड़ी इलायची, बादाम फूल आदि का इस्तेमाल किया जाता है।

यह कचोरी के स्वाद को दोगुना कर देता है। इस कचोरी को लोग मिठाई और चरखी चटनी के साथ खाना पसंद करते हैं। वहीं कुछ लोग इसे बिना चटनी के भी खाना पसंद करते हैं। ऐसे में अगर आप भी इंदौर आते जाते रहते हैं, तो एक बार यहां की कचोरी जरूर खाएं इसका स्वाद कभी नहीं भूल पाएंगे।