जबलपुर में 200 सफाई कर्मचारियों ने किया काम बंद, व्यवस्था चरमराई

-200-cleaning-workers-of-Jabalpur-work-stopped

जबलपुर| नगर निगम के सफाई कर्मचारी और ठेकेदार के बीच पैसों को लेकर छिड़ी जंग रुकने के नाम नहीं ले रही है| जिसका खामियाजा जनता को भुगतना पड़ रहा है। पैसों की मांग कर रहे पांच जोनो के तक़रीबन दो सौ सफाई कर्मचारी काम बंद कर विरोध प्रदर्शन किया…सफाई कर्मचारियों के इस विरोध से शहर की सफाई व्यवस्था चरमरा गई है…आलम ये है कि कचरा कलेक्शन न होने से लोगो ने घरो से निकलने वाला कचरा सड़को के किनारे ही फेंक दिया…दरअसल इसकी वजह निगम के सफाई ठेकेदार और सफाई कर्मचारियों के बीच पिछले 3 माह से पैसों को लेकर छिड़ी जंग है…जिसके कारण सफाई कर्मचारी काम बंद कर विरोध जताया… विरोध कर रहे सफाई कर्मचारियों का आरोप है कि सफाई ठेकेदार ने न तो उन्हें तीन माह से वेतन नहीं दिया है… जिसकी वजह से वह आर्थिक तंगी से जूझ रहे है समय पर पैसा नहीं मिलने के कारण से उनकी भूखे मरने की नौबत आ चुकी है…इतना ही नहीं कर्मचारियों का आरोप है कि उनका वेतन 7 हज़ार रूपये प्रतिमाह होने के बाबजूद उन्हें केवल 6 हज़ार रुपए दिए जाते है…और पी एफ के नाम पर काटे जा रहे एक हजार रूपये की जानकारी भी नहीं दी जा रही है…उल्टा उसके अपना हक़ मांगने पर ठेकेदार उन्हें काम से निकालने की धमकी देता है.. जिसकी वजह से मजबूरन उन्हें डोर टू डोर कचरा कलेक्शन करने वाली गाड़ियों के पहिये जाम करने पड़े है.. दरअसल शहर के 79 वार्डो मे 400 से अधिक वाहन की मदद से कचरा कलेक्शन होता है…लेकिन विरोध के चलते पांच जोनों की   गाड़ियां यार्ड मे ही खड़ी रही…न लोडर कचरा उठाने गया और न ही डोर टू डोर कचरा कलेक्शन वाले वाहन घरो तक पहुंचे…जिससे लोगो को सड़को के किनारे ही मज़बूरी में कचरा डालना पड़ा…ठेकेदार और सफाई कर्मचारियों के बीच चल रही लड़ाई को सुलझाने की कोशिश निगम के अधिकारी कर रहे है…ताकि जगह जगह लगे कचरे के ढेरों से जनता को नहीं दिलाई जा सकें।