जबलपुर, संदीप कुमार।कोविड-19 के बीच जिला प्रशासन ने एक बार फिर माफिया विरोधी कार्रवाई शुरू कर दी है।जिला प्रशासन ने नगर निगम और पुलिस के साथ मिलकर एक बड़े रेस्टोरेंट को जमीदोज कर दिया है। इधर माफिया विरोधी प्रशासन की कार्रवाई पर कई सवाल भी उठने लगे है कि आखिर जब बीच शहर में माफिया अवैध निर्माण कर रहा था तो उस समय क्या प्रशासन अपनी आंखें बंद किए हुए था।

माफिया पर शिकंजा कसने के लिए प्रदेश सरकार के निर्देशों पर जबलपुर जिला प्रशासन और नगर निगम की संयुक्त टीम द्वारा आज नोदरा पुल के पास स्थित दरबार रेस्टोरेंट के सामने बड़ी संख्या में पुलिस बल और प्रशासन के वाहनों को खड़ा कर सड़क जाम कर दी गई।

  1. कई बार दिया का चूका नोटिस

निगम के अधिकारियों के साथ जिला प्रशासन के बल मौके पर पहुंचा और यहां अवैध रूप से चल रहे एक नामी रेस्टोरेंट को तोड़ने की कार्रवाई शुरू की गई।शासन की शक्ति को देखने के लिए बड़ी संख्या में स्थानीय लोग जमा हो गए जिन्हें मौके से हटाने के लिए पुलिस बल को घंटों मशक्कत भी करनी पड़ी। जानकारी के मुतबिक निगम प्रशासन द्वारा रेस्टोरेंट को कई बार नोटिस दिया गया था। इसके बाद भी उसने संबंधित दस्तावेज कार्यालय में जमा नहीं किए जिसे देखते हुए उक्त कार्रवाई की गई।

ये रहे मौजूद

संभाग कमिश्नर महेशचंद्र चौधरी के निर्देश पर अपर कलेक्टर संदीप जीआर,निगम कमिश्नर आशीष सिंह,अपर आयुक्त रोहित कौशल,asp अमित कुमार सहित जिला प्रशासन,नगर निगम और पुलिस का भारी अमला मौजूद रहा।