एक-47 मामले में NIA ने फैक्ट्री में दी दबिश, एक दर्जन अफसर रडार पर

ak-47-case-nia-reached-in-factory-for-investigation

जबलपुर।

देश के बहुचर्चित एके-47 तस्करी मामले की जांच ने रफ्तार पकड़ ली है। तस्करी के इस गोरखधंधे की जांच के लिए 12 सदस्यी एनआईए की टीम जबलपुर पहुंची। जहां उसने सीओडी फैक्ट्री मे दबिश दी। एनआईए टीम अपने साथ रिमांड में तस्करी के मास्टरमाइंड और सीओडी फैक्ट्री में सीनियर स्टोर मैनेजर रहे सुरेश ठाकुर और एक्स आॅर्मोरर पुरषोत्तम रजक को भी साथी लाई है।

जानकारी के मुताबिक जांच में फैक्ट्री में पदस्थ करीब एक दर्जन अधिकारी और कर्मचारी भी अब एनआईए की रडार में आ गए हैं। जिनका नाम सुरेश और पुरषोत्तम ने अपने बयानों में दिया है। एनआईए की टीम फैक्ट्री के आरएसएसडी सेक्शन पहंची है। जहां के स्टाॅक रजिस्टर और अन्य बिंदूओं पर जांच जारी है।  लंबे समय से फल फूल रहे तस्करी के इस खेल में करीब 70 से अधिक एके 47 हथियार सीओडी फैक्ट्री से बिहार के मुंगेर और वहां से देश के अनेक हिस्सों में बेच दिए गए।

मामले को एनआईए द्वारा टेकओवर करने से पहले बिहार की मुंगेर और जबलपुर पुलिस ने काफी कुछ खुलासे कर दिए थे। करीब एक दर्जन से अधिक आरोपियों की गिरफ्तारियाॅ भी हो चुकी हैं लेकिन अभी कई बड़े चेहरे बेपर्दा होना बाकी हैं। सूत्रो के हवाले से मिली जानकारी के मुताबिक इस पूरे खेल में एक्स सर्विसमैन समेत फैक्ट्री के आला अधिकारी भी शामिल हो सकते हैं। एनआईए की टीम बेहद गोपनीय ढ़ंग से मामले की जाॅच में जुटी हुई है । जाॅच के अंश को बताए बिना जबलपुर एसपी ने एनआईए टीम की जबलपुर में होने की पुष्टि की है।