जबलपुर मे एडिशनल एस पी बनकर ठगी का मामला , पुलिस कर्मी और पेट्रोल पम्प संचालक फंसे झांसे मे

ऑक्सीजन कंसंट्रेटर

जबलपुर, संदीप कुमार।  जबलपुर मे ठगी का मामला सामने आया है, खुद को एडिशनल एस पी बताकर ठग ने पुलिसकर्मी के ही फोन पर कॉल करके 50 हजार अपने अकाउंट मे ट्रांसफर करवा लिए, ठगी करने वाले ने खुद को एडिशनल एस पी बताकर पनागर थाने के सिपाही को फोन किया, और थाने के पास ही स्थित पनागर पेट्रोल पम्प के संचालक के पास जाकर बात कराने के लिए कहा। सिपाही ने पेट्रोल पम्प पहुंचकर संचालक की मोबाइल नम्बर पर बात करा दी, पेट्रोल पम्प संचालक से फोन पर बातचीत में ठग ने कहा कि एडिशनल एसपी बोल रहा हूं, बेटे का एडमिशन कराना है 50 हजार रुपए खाते में ट्रांसफर कर दो, संचालक ने सिपाही द्वारा बात कराए जाने पर सही मानकर 50 हजार रुपए ट्रांसफर कर दिए ।

जयवर्धन सिंह ने बीजेपी पर साधा निशाना, कहा- शिवराज सरकार में जनता का हो रहा शोषण

इसके बाद देर शाम पनागर थाना के टी आई आर के सोनी को इस मामले की जानकारी लगी , जब उन्होंने मामले की छानबीन की तो फ्रॉड सामने आया , जिस पर वे भी स्तब्ध रह गए, उन्होने मोबाइल फोन नम्बर की जांच कराई तो पता चला कि अलवर राजस्थान के ठग घनश्याम शर्मा की यह करतूत है, जिसने एएसपी बनकर रुपया ट्रांसफर करा लिया।  मामले को गंभीरता से लेते हुए घनश्याम शर्मा के उस  खातें को होल्ड करा दिया गया है, साथ ही उन तीन खातों को भी होल्ड करा दिया गया है, जिसमें शातिर ठग ने रुपए ट्रांसफर करा लिए है, पनागर थाना प्रभारी का कहना है कि आरोपियों की तलाश शुरु कर दी है जल्द ही वे पुलिस की गिरफ्त में होगें ।

Suspended: कार्यपालन यंत्री निलंबित, चीफ इंजीनियर के 3 इंक्रीमेंट रोकने शोकॉज नोटिस

खास बात यह है कि थाने के पुलिस कर्मी ने भी लैंड लाइन पर आए फोन को सही मान लिया और वह पेट्रोल पम्प संचालक के पास पहुंच गया, जहां पर उसने दिए गए मोबाइल नम्बर पर एएसपी समझकर पंप संचालक से बात भी करा दी, पेट्रोल पम्प संचालक भी थाने  के पुलिस कर्मी को देखकर यही समझा कि शायद एएसपी ही होगें। ठगी के मामले लगातार सामने आ रहे है,और पुलिस खुद लोगों से ऐसे ठगों से सावधान रहने की अपील करती है, लेकिन इस घटना मे तो खुद पुलिस का सिपाही ही झांसे मे आ गया ,फिलहाल मामले में आरोपियों की तलाश पुलिस ने शुरू कर दी है।